विदेशों में इस साल के अंत तक 70 ब्रांच होंगी बंद

1

विदेशों में भारतीय बैंकों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। अब भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाओं में ताले लग सकते हैं। इस साल के अंत तक भारत के सरकारी बैंकों की विदेशों में मौजूद कुल 216 शाखाओं में से 70 शाखाएं बंद होने जा रही हैं। यही नहीं इन 70 शाखाओं के अलावा विदेशों में इन बैंकों की दूसरी सेवाएं भी बंद किए जाने की योजना बनाई गई है। वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार विदेशों में बंद की जा रही शाखाओं में भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, आईडीबीआई बैंक और बैंक ऑफ इंडिया ने विदेशों की अपनी शाखाओं में भी भारी कटौती करने की योजना बनाई  है।

उन शाखाओं को छोड़कर, जो विदेशों में भी प्रॉफिट में हैं बाकी बैंकों को बंद करने का फैसला लिया गया है। साथ ही खाड़ी देशों में जैसे ओमान और दुबई स्थित शाखाओं को भी बंद किए जाने की योजना बनाई जा रही है। बैंक यह कदम खर्च कम करने और पूंजी बचाने के लिए कर रहा है। खाड़ी के देशों में भी यह बैंक उन ब्रांचों को बंद करेंगी, जिनसे पर्याप्त राजस्व हासिल नहीं हो रहा है।

गौरतलब है कि इन बैंकों की ब्रांच ने अपनी गैर मूल संपत्तियां बेचनी शुरू कर दी हैं। इसके साथ ही इन ब्रांच को कहा गया है कि वे अपने खर्च में कमी करें। अभी तक 37 ओवरसीज ब्रांच अभी तक बंद किए जा सकते हैं वहीं 60-70 ब्रांच इस साल तक बंद कर दिए जाएंगे। अधिकारी ने बताया कि बंद किए जा रहे ब्रांच पूरी तरह से काम कर रहे थे इन ब्रांच में बैंक, रिप्रेजेंटेटिव ऑफिस और रेमिटेंस ऑफिस भी हैं।

ये ख़बरें भी पढ़ें… 

स्विस बैंक में भारतीयों के 300 करोड़ रुपए

बैंकों ने 963 करोड़ रुपए वसूले

स्विस बैंक में 50 % बढ़ा भारतीयों का पैसा

Share.