Coronavirus के कारण जापानी जहाज में 3500 मुसाफिर कैद

0

कोरोना वायरस (3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus)  मौत का दूसरा नाम बन चुका है और इसके नाम का आतंक आज सारी दुनिया में फ़ैल चुका है। इस वायरस को जन्म देने देश चीन में अब तक 900 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि दुनियाभर में इस वायरस से 1,018 मौतें हो चुकी हैं। पूरी दुनिया में इस वायरस से 43 हजार से भी ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जिनमे 41 हजार से भी ज्यादा लोग सिर्फ चीन के हैं। वहीं अब चीन से बाहर भी इस वायरस से मौतों का सिलसिला शुरू हो चुका है। दुनियाभर के देश चीन से अपने-अपने नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकालने की कवायद में जुटे हैं लेकिन कई लोग ऐसे भी हैं जो चीन से बाहर भी फंसे हुए हैं और उन्हें जमीन तक नसीब नहीं हो रही। दरअसल जापान का एक शिप जिसका नाम ‘डायमंड प्रिंसेस’ (Diamond Princess Ship) है उसे योकोहामा में रोक दिया गया है। इस शिप में 136 लोग इस वायरस (3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus)  से संक्रमित पाए गए हैं। दरअसल यह क्रूज जापान से हांगकांग गया था और वहां बीती 31 जनवरी को एक शख्स कोरोना वायरस का शिकार हो गया। वायरस की चपेट में आ जाने के बाद शिप को तत्काल ही वापस बुला लिया गया और इसे योकोहामा में अलग रखा गया है। अब अगले 14 दिनों तक यह जहाज अलग रखा जाएगा फिलहाल सभी यात्रियों की जांच की जा रही है। दरअसल फ्लू के मरीज को 14 दिनों के लिए आइसोलेशन यानी सभी से अलग रखा जाता है ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। लेकिन कोरोना के मामले में यह अवधि दोगुनी अर्थात 28 दिनों की होती है। संक्रमण फैलने से रोकने के लिए इसका लक्षण दिखने पर मरीज को 28 दिनों के लिए अलग रखा जाता है।

Coronavirus को लेकर चीन छुपा रहा इतना बड़ा सच, जानकार चौंक जाएंगे

Coronavirus के कारण जापानी जहाज में 3500 मुसाफिर कैद

Coronavirus के कारण जापानी जहाज में 3500 मुसाफिर कैदजापान का एक शिप जिसका नाम 'डायमंड प्रिंसेस' (Diamond Princess) है उसे योकोहामा में रोक दिया गया है। इस शिप में 136 लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। दरअसल यह क्रूज जापान से हांगकांग गया था और वहां बीती 31 जनवरी को एक शख्स कोरोना वायरस का शिकार हो गया। वायरस की चपेट में आ जाने के बाद शिप को तत्काल ही वापस बुला लिया गया और इसे योकोहामा में अलग रखा गया है। अब अगले 14 दिनों तक यह जहाज अलग रखा जाएगा फिलहाल सभी यात्रियों की जांच की जा रही है।#Coronavirus #DiamondPrincess #HongKong

Talented India News द्वारा इस दिन पोस्ट की गई मंगलवार, 11 फ़रवरी 2020

बता दें कि इससे पहले इटली का एक जहाज भी 6 हजार यात्रियों को लेकर रवाना हो रहा था लेकिन 2 यात्रियों की तबियत अचानक बिगड़ गई और उनमें कोरोना वायरस (3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus)  के लक्षण देखे गए। कोरोना वायरस के लक्षण मिलने पर इस शिप को इटली में ही रोक दिया गया था और 6 हजार यात्री फंस गए थे। फिलहाल इस जहाज को कब रवाना किया जाएगा इसकी कोई भी जानकारी नहीं दी गई है। फिलहाल जापान के योकोहामा में रोके गए डायमंड प्रिंसेस (Diamond Princess) क्रूज पर कुल 3545 लोग मौजूद हैं जिनमें तेजी से कोरोना वायरस (3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus) फ़ैल रहा है। इन लोगों में 2500 यात्री हैं जबकि 1045 चालक दल के सदस्य और स्टॉफ के लोग मौजूद हैं। इस क्रूज में भारतीय यात्री भी मौजूद हैं और इन भारतीयों को निकालने के लिए भारतीय दूतावास तमाम कोशिशें कर रहा है, इस बात की जानकारी विदेश मंत्री एस जयशंकर (Subrahmanyam Jaishankar) ने ट्वीट के माध्यम से दी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार किसी भी भारतीय में कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं पाया गया है।

Coronavirus से डरे भगवान, मंदिर किया बंद

3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus | Latest News

रविवार 9 फ़रवरी को क्रूज प्रबंधन की तरफ से इसे लेकर एक बयान जारी किया गया था जिसमे जानकारी दी गई कि किस-किस देश कितने-कितने नागरिक इस खतरनाक कोरोना वायरस (3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus) की चपेट में आए हैं। प्रबंधन की तरफ से जारी किए गए बयान में कहा गया कि 45 जापानी, 23 अमरीकी, 4 ऑस्ट्रेलियाई, 3 फिलीपींस इसके अलावा 1-1 कनाडा और यूक्रेन के नागरिक कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। 10 क्रू मेंबर भी इस वायरस से संक्रमित हैं। अन्य संक्रमित लोगों की जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई है। सभी बीमार लोगों को एक अस्पताल में दाखिल कराया गया है। इन लोगों को जब क्रूज से बाहर निकाला गया तब एक ढंका हुआ रास्ता बनाया गया ताकि संक्रमण कहीं और न फ़ैल सके। वहीं क्रूज पर मौजूद सभी यात्रियों को अपने-अपने केबिन में ही रहने और एक-दूसरे से दूर रहने की सलाह दी गई है। क्रूज़ पर मौजूद 300 सदिग्धों की भी जांच की जा रही है जिनमे से 61 लोगों में कोरोना वायरस (3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus) के प्राथमिक लक्षण दिखाई दिए हैं। दुनियाभर के तमाम देशों ने चीन के लिए अपनी उड़ानों को रद्द कर दिया है और सुरक्षा के लिहाज़ से एयरपोर्ट्स पर यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग की जा रही है। भारत ने चीन में फंसे अपने नागरिकों को सुरक्षित निकालने के लिए पिछले हफ्ते एयर इंडिया का एक प्लेन भेजा था जो 324 भारतीयों को लेकर लौटा था। इसके बाद से सभी यात्रियों को गहन चिकित्सा में रखा गया है। चीन में भी कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों के लिए 10 दिनों में अस्पताल बनाया गया है जहां मरीजों को आइसोलेटेड वार्ड में रखा जा रहा है और उनका इलाज किया जा रहा है। कोरोना वायरस (3500 Passengers Imprisoned Due To Coronavirus) बेहद तेजी से फ़ैल रहा है और यह चीन में महामारी की तरह फ़ैल चुका है जिसे लेकर वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने दुनियाभर के लिए पहले ही अलर्ट जारी किया था। तमाम देशों के डॉक्टर्स और वैज्ञानिक इस वायरस का इलाज खोजने में जुटे हुए हैं बावजूद इसके अभी तक इसका कोई भी इलाज नहीं खोजा जा सका है। वहीं चीनी सरकार इस वायरस से हुई मौतों के जो आंकड़े दर्शा रही है वह असलियत में कुछ और हैं ऐसा एक चीनी कंपनी ने दावा किया था। इस चायनीज कंपनी ने जो आंकड़े जारी किए थे वे चौंकाने वाले और खौफनाक थे। अगर कंपनी द्वारा जारी किए आंकड़े सही हैं जिसे चीनी सरकार छुपा रही है तो यह दुनिया के लिए बेहद बड़ा खतरा है और जल्द से जल्द इस वायरस का इलाज खोजा जाना जरूरी है।

चीन के Coronavirus का इलाज India के पास

Prabhat Jain

Share.