लकड़ी बच्‍चे के पेट के आरपार, फिर भी खुद घर पहुंचा

0

यदि आपको खुद पर यकीन है, तो हर मुश्किल आसान है। स्‍वयं से कहें कि आप हर मुश्किल से लड़ सकते हैं। हौसले के सामने तो बड़े-बड़े पर्वत झुक जाते हैं।  ऐसे ही हौसले का एक अद्भुत उदाहरण मध्यप्रदेश के बड़वानी के पाटी विकासखंड के एक बालक ने प्रस्तुत किया है| पेट से एक लकड़ी आरपार होने के बाद भी उसने हिम्मत नहीं हारी और खुद घर पहुंच गया|

दरअसल, बड़वानी के पाटी ब्लॉक के ग्राम बुदी पटेल फलिया में  छोटी बहन के लिए बेर तोड़ने पेड़ पर चढ़ा एक बच्‍चा सुरेश (8) पिता सकाराम असंतुलित होकर गिर गया| इसी दौरान पेड़ से गिरने के बाद एक सूखी लकड़ी बच्‍चे के पेट के आरपार हो गई| खून से लथपथ सुरेश ने इस विपरीत परिस्थिति में भी हिम्मत नहीं हारी और वह घायल अवस्था में ही 500 मीटर दूर स्थित अपने घर पहुंच गया| जब वह घर में घुसा तो उसे इस हालत में देख घबरा गए वहीं अन्य लोग उसका हौसला देखकर हैरान रह गए| इसके बाद परिजन द्वारा प्राइवेट वाहन से बालक को पाटी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां से उसे जिला अस्पताल भेजा गया| वहां बालक को खून की बॉटल लगाई गई| हालत नाजुक होने के बाद भी बालक अच्छे से बातचीत कर रहा था| करीब आधे घंटे बाद बालक को इंदौर रैफर किया गया|

पिता सकाराम ने बताया “उसके दो बेटे और एक बेटी है| बेटे की हिम्मत ने ही उसे जिंदा रखा| सुरेश कक्षा तीसरी में पढ़ता है| पिता ने बताया कि बुधवार को वह स्कूल नहीं गया| स्कूल जाता तो यह हादसा नहीं होता|

-अंकुर उपाध्याय

सेवादार या प्यार, कहां फंसे थे भय्यू महाराज ?

एकतरफा प्यार में की बेरहमी से ह्त्या

दुकानदार हो जाएं सावधान !

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.