क्या फिर आपराधिक छवि वालों को टिकट देगी पार्टियां ?

1

मध्यप्रदेश चुनाव नज़दीक आते जा रहे हैं। चुनाव आते ही आपराधिक छवि वाले नेताओं को टिकट नहीं देने की मांग उठने लगती है। ऐसा हर चुनाव में होता है, लेकिन इस पर अमल नहीं होता। पार्टियों की प्राथमिकता छवि नहीं, जिताऊ उम्मीदवार होते हैं। आगामी चुनाव में पार्टियां आपराधिक छवि वाले नेताओं को टिकट नहीं देगी, इस पर संदेह है। साल 2013 में चुने गए 230 विधायकों में से 65 के खिलाफ मामले दर्ज हैं।

सांसदों और विधायकों के कामकाज, उनके शपथ-पत्र और अन्य गतिविधियों की जांच-पड़ताल करने वाली संस्था ‘मध्यप्रदेश इलेक्शन वॉच’ ने सभी राजनीतिक पार्टियों को पत्र लिखकर कहा है कि आगामी विधानसभा चुनाव में आपराधिक पृष्ठभूमि वाले नेताओं को टिकट नहीं दें।

इलेक्शन वॉच के मुताबिक, भाजपा, कांग्रेस और बसपा ने कुल 683 उम्मीदवार खड़े किए थे। उनमें 206 पर आपराधिक प्रकरण और 120 पर गंभीर मामले दर्ज हैं। इलेक्शन वॉच ने सभी प्रत्याशियों द्वारा चुनाव आयोग में दिए गए शपथ-पत्र का परीक्षण कर सारे आंकड़ों का अध्ययन किया है।

शेखावत के खिलाफ 9 मामले दर्ज

सबसे ज्यादा 9 प्रकरण नागदा से भाजपा विधायक दिलीपसिंह शेखावत के खिलाफ दर्ज है। कांग्रेस के तीन विधायक चंदेरी से गोपालसिंह चौहान, जबलपुर पश्चिम से तरुण भनोत और नरसिंहगढ़ से गिरीश भंडारी के खिलाफ पांच-पांच मामले दर्ज हैं।

महिला विधायक भी शामिल

तीन महिला विधायकों के खिलाफ भी प्रकरण दर्ज है। इनमें भाजपा की उषा ठाकुर के खिलाफ दो, रंजना बघेल के खिलाफ एक और कांग्रेस की शकुंतला खटीक के खिलाफ एक मुकदमा दर्ज है।

विधायकों की शिक्षा और दर्ज प्रकरणों पर नज़र

भाजपा

– नरेंद्रसिंह कुशवाहा, 4 प्रकरण , 12वीं पास

– सुरेंद्रनाथसिंह, 2 प्रकरण , ग्रेजुएट

– मनोज पटेल, 3 प्रकरण, 10वीं पास

– कालू सिंह,  4 प्रकरण, 5वीं पास

– सुदर्शन गुप्ता, 2 प्रकरण, पीजी

– उषा ठाकुर, 2 प्रकरण, पीजी

– इंदरसिंह परमार, 2 प्रकरण, ग्रेजुएट

– दिलीप सिंह शेखावत , 9 प्रकरण, पीजी

– विश्वास सारंग, 2 प्रकरण, ग्रेजुएट

– मुरलीधर पाटीदार, 5 प्रकरण, पीजी

कांग्रेस

– तरुण भनोत, 5 प्रकरण, 12वीं पास

– गिरीश भंडारी, 5 प्रकरण, ग्रेजुएट

– सोहनलाल वाल्मीक, 2 प्रकरण, 12वीं पास

– जीतू पटवारी, 4 प्रकरण, ग्रेजुएट

– गोपालसिंह चौहान, 5 प्रकरण, 8वीं पास

मप्र चुनाव: बसपा ने जारी की पहली लिस्ट

कांग्रेस ने जनता की आवाज़ उठाई है – राहुल गांधी

5 राज्यों में एक साथ हो सकते हैं चुनाव

Share.