कोरोना: चीन के खिलाफ WHO का सख्त रवैया, उठाया यह कदम

0

कोरोना वायरस को पूरी दुनिया में फ़ैलाने वाले चीन के खिलाफ अब WHO बड़ी कार्यवाई करने जा रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन( WHO) अगले सप्ताह अपनी एक टीम चीन भेज कर कोरोना वायरस के स्रोत का पता लगाने की कोशिश में है. टीम से जुड़े वैज्ञानिकों का अनुमान है कि ये वायरस चीन के वुहान बाजार से आया है जहां कई प्रजातियों के जानवरों की बिक्री होती है. हालांकि, चीन इस दावे को मानने से इंकार कर रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के डायरेक्टर डनरल टेड्रोस एडहैनम गिब्रयेसॉस ने कहा है कि , “वायरस के स्रोत को जानना बेहद जरूरी है. ये विज्ञान है, ये लोगों की सेहत से जुड़ा मामला है, अगर हमें वायरस के बारे में सब कुछ पता हो तो हम वायरस से बेहतर तरीके से लड़ पाएंगे. इसके लिए ये जानना भी जरूरी है कि वायरस कैसे आया.” हालांकि, ट्रेडोस ने इस टीम के सदस्यों के बारे में खुलासा नही किया है.

COVID-19 crisis: WHO to kick off first ever virtual international ...

वैज्ञानिकों का अनुमान रहा है कि ये वायरस चीन के वुहान बाजार के जरिए जानवरों से इंसानों में आया होगा. चीन के वुहान में ही दिसंबर 2019 में कोरोना वायरस का सबसे पहला मामला सामने आया . कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि स्पेन में मार्च महीने के सीवेज से इकठ्ठे किए गए सैंपल में भी कोविड-19 मौजूद पाया गया है.ये दूसरी बार है जब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन में मिशन भेजेगा. इससे पहले जनवरी महीने में भी चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों से बातचीत के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक टीम भेजी थी. टेड्रोस ने कहा कि महामारी हमें मानवता के सबसे अच्छे और सबसे बुरे दोनों दौर में ले आई है.

चीन में कोरोना वायरस के 41 नए मामले ...

उन्होंने इस संकट की घड़ी में एकजुटता का जिक्र किया लेकिन वायरस के राजनीतिकरण को लेकर भी आगाह किया. विश्व स्वास्थ्य संगठन प्रमुख ने कहा, “अभी बुरा दौर आना बाकी है, मुझे माफ करिए…लेकिन इस तरह के माहौल में मुझे डर है कि अभी और बुरा दौर आएगा.”दुनिया भर में कोरोना से मौत का आंकड़ा पांच लाख पार पहुंच चुका है और संक्रमण के मामले 1 करोड़ से ऊपर हो गए हैं. टेड्रोस ने कहा, “कई देशों ने अच्छी प्रगति की है लेकिन वैश्विक स्तर पर महामारी की रफ्तार बढ़ती जा रही है. इसीलिए हम इसका मिलकर सामना करेंगे.”

Share.