ममता सरकार: इस नाम से पुकारा जाएगा पश्चिम बंगाल

0

पश्चिम बंगाल को आज एक नया नाम मिल गया है| राज्य की विधानसभा ने गुरुवार को इस प्रस्ताव को पारित कर दिया, जिसके बाद पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर ‘बांग्ला’ हो गया| अब इस प्रस्ताव को केंद्रीय गृह मंत्रालय भेजने की तैयारी की जा रही है| गृह मंत्रालय ने यदि इस नाम को हरी झंडी दे दी तो पश्चिम बंगाल की जगह अब आपको ‘बांग्ला’ कहना होगा|

राज्य की विधानसभा में गुरुवार को राज्यमंत्री पार्थ चटर्जी ने इस प्रस्ताव को पेश किया,  जिसका कांग्रेस और लेफ्ट ने समर्थन किया और प्रस्ताव निर्विरोध पास हो गया| अब इसे केंद्र को भेजा जाएगा| केंद्र की तरफ से प्रस्‍ताव पास होने के बाद ही गैजेट जारी किया जाएगा और फिर पश्चिम बंगाल का यह नाम चलन में आएगा|

पश्चिम बंगाल का तीनों भाषाओं में एक ही नाम

दरअसल, इसके पहले 29 अगस्त, 2016 को विधानसभा में राज्य सरकार ने नाम बदलने का प्रस्ताव पारित किया था| तब कहा गया था कि पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर अंग्रेजी में ‘बंगाल’,  बंगाली में ‘बांग्ला’ और हिंदी में ‘बंगाल’ करने का प्रस्ताव भेजा गया था, लेकिन तब केंद्र सरकार ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था| अब तीनों भाषाओं में एक ही नाम पेश किया गया | पश्चिम बंगाल का नाम हिंदी, अंग्रेजी और बंगाली में ‘बांग्ला’ ही होगा|

2016 में केंद्र ने जब प्रस्ताव ठुकराया था, तब कहा था कि एक ही राज्य के तीन अलग-अलग भाषाओं में अलग-अलग नाम नहीं हो सकते| इसके बाद राज्य सरकार को सुझाव दिया गया था कि ममता बनर्जी सरकार किसी एक नाम को चुने और उस पर फैसला करें| इसके बाद अब गुरुवार को पश्चिम बंगाल का तीनों भाषाओं के लिए एक ही नाम का प्रस्ताव पारित किया गया है|

गौरतलब है कि इसके पहले वाममोर्चा के शासन काल में भी राज्य का नाम बदलने का निर्णय लिया गया था| आज विधानसभा में माकपा विधायक प्रदीप कुमार साहा ने नाम बदलने को लेकर राज्य सरकार पर करारा हमला बोला| सभा अध्यक्ष विमान बनर्जी ने इसके बाद विधायक को जमकर फटकार लगाईं और कहा, “आप विपक्ष के विधायकों के नेता हैं| विधानसभा की कार्रवाई या परिचर्चा में हमेशा से ही साथ देने के बजाय आप दखलअंदाजी करते हैं| यह व्यवहार शोभा नहीं देता|”

Share.