विहिप की सरकार को चेतावनी…

0

राम मंदिर को लेकर एक बार फिर विश्व हिन्दू परिषद् ने केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विश्व हिन्दू परिषद् ने राम मंदिर के निर्माण के लिए आंदोलन तेज़ कर केंद्र सरकार पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। मुजफ्फरपुर में आयोजित धर्मसभा में विहिप ने मोदी सरकार पर निशाना साधा और चेतावनी देते हुए कहा कि यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने कार्यकाल में राम मंदिर निर्माण नहीं करवाते हैं तो 6 दिसम्बर 1992 जैसे हालात पैदा हो जाएंगे।

गौरतलब है कि 9 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान पर एक विशाल धर्मसभा का आयोजन किया गया था, जिसमें लाखों राम भक्त शामिल हुए थे। विहिप लगातार धर्मसभाओं का आयोजन कर सरकार पर दबाव बना रही है। विहिप के क्षेत्रीय मंत्री वीरेंद्र विमल ने मुजफ्फ़रपुर में आयोजित धर्मसभा में अपने भाषण में प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी व सभी सांसदों को सुग्रीव बताया। विमल ने कहा कि मंदिर निर्माण के नाम पर ही भाजपा सत्ता पर काबिज हुई थी, लेकिन सुग्रीव की भांति सत्ता प्राप्त होने के बाद भगवान राम को भूल गई।

विमल ने मोदी सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि 31 जनवरी तक सरकार हर हाल में राम मंदिर का निर्माण करवाए। केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए विमल ने कहा कि यदि ऐसा नहीं होता तो 1 फ़रवरी को संत समाज अपना निर्णय ले लेगा। 31 जनवरी के बाद अदालत या फिर सरकार की कोई परवाह नहीं की जाएगी। आगे विमल ने कहा कि जिस तरह स्वतंत्र भारत में कानून बनाकर सोमनाथ मंदिर का निर्माण करवाया गया था, ठीक उसी तरह से सरकार को कानून बनाकर राम मंदिर का भी निर्माण करवाना चाहिए।

राजस्थान शपथ ग्रहण समारोह LIVE

पाक के लिए खतरा है आतंकवाद – पूर्व राजनयिक

आखिर कौन हैं, जो सीएम कमलनाथ को लला बोल रहे हैं?

Share.