उत्तर प्रदेश में शराब माफियाओं ने सिपाही को उतारा मौत के घाट

0

उत्तर प्रदेश के कासगंज जनपद में सिढ़पुरा थाना क्षेत्र के गांव नगला धीमर में अवैध शराब (Illegal Liquor) की दबीश देने वाले हल्का इंचार्ज अशोक पाल (SI Ashok Pal) और सिपाही देवेंद्र सिंह (Constable Devendra Singh) पर शराब माफिया मोती, भाई एलकार और अन्य ने हमला कर दिया. दरोगा और सिपाही को बंधक बनाकर पिटा गया नतीजतन सिपाही देवेंद्र की मौत हो गई, जबकि दरोगा अशोक पाल गंभीर रूप से घायल हैं.

पुलिस ने 2 नामजद और 6 अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की है. एफआईआर के मुताबिक शराब माफियाओं ने दरोगा की पिस्टल समेत कई कारतूस भी लूट ले उड़े.मामले में हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती समेत आईपीसी की 10 संगीन धाराओं में मामला दर्ज किया है. इसमें मोती और उसके भाई एलकार को मुख्य आरोपी है. घायल दरोगा अशोक पाल द्वारा यह मुकदमा दर्ज करवाया गया है. एफआईआर के मुताबिक, जब दरोगा अशोक पाल और सिपाही देवेंद्र मुखबिर की सूचना पर पहुंचे तो मोती और उसके भाई एलकार ने अन्य साथियों के साथ उन्हें घेर लिया. इसके बाद उन पर लाठी-डंडे और भाले से हमला किया गया. फिर दोनों को मरा हुआ समझकर पिस्टल और कारतूस लूट ले गए.

घायल दरोगा ने कही ये बात घायल दरोगा अशोक पाल ने बताया कि जब वे और सिपाही देवेंद्र मौके पर पहुंचे तो वहां अवैध रूप से कच्ची शराब बन रही थी. मौके पर उनको देखकर मोती और एलकार समेत 6 अन्य ने घेरकर पहले फायरिंग की फिर भाले और डंडों से मारा. इसके बाद मरा हुआ समझकर काफी दूर तक घसीटकर ले गए. माफिया मोती सिंह समेत 8 लोग वारदात में शामिल थे.पुलिस के मुताबिक मोती सिंह हिस्ट्रीशीटर है और उसके खिलाफ 11 संगीन मामले दर्ज हैं.

Share.