लालू के लाल का अनोखा अंदाज़

0

सुर्ख़ियों में बने रहने वाले राजद सुप्रीमो लालूप्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव एक बार फिर सुर्ख़ियों में छा गए हैं। दरअसल, जमीन से जुड़े हुए नेता तो बहुत हैं, लेकिन उनका दर्द समझने और उनकी समस्याएं सुनने के लिए कोई भी नेता अपनी कुर्सी नहीं छोड़ता। लालू के बड़े लाल यानी तेजप्रताप यादव ने जनता की समस्याओं को सुनने के लिए अपनी कुर्सी ही छोड़ दी। अपनी कुर्सी छोडने (Tej Pratap Sat On Ground At Janata Darbar In Patna) के कारण तेजप्रताप एक बार फिर चर्चा में आ गए हैं।

जी हां, तेजप्रताप यादव ने जनता दरबार में अपनी कुर्सी छोड़ दी और जमीन पर आ बैठे। दरअसल, लोगों की समस्याएं सुनने के लिए तेजप्रताप यादव ने चौपाल लगाई थी, लेकिन यह चौपाल उन्होंने जमीन पर लगाई और अपनी कुर्सी को छोड़ (Tej Pratap Sat On Ground At Janata Darbar In Patna) दिया। अब तेजप्रताप और उनका यह जनता दरबार सुर्ख़ियों का विषय बन गया है। तेज प्रताप का यह अंदाज सभी को खूब भाया। जब उनसे यह पूछा गया कि अपने कुर्सी छोड़ जमीन पर बैठक चौपाल क्यों लगाई, तब तेजप्रताप ने कहा कि फरियादी और फरियाद सुनने वालों के बीच कोई फर्क न दिखे इसलिए उन्होंने ऐसा किया।

तेजप्रताप यादव का कहना है कि जो लोग या मंत्री कुर्सी (Tej Pratap Sat On Ground At Janata Darbar In Patna) के लिए मरते हैं वही हवा में उड़ जाते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों के दर्द को और उनकी समस्याओं को को जानने के लिए जमीन से जुड़ा होना चाहिए। फरियादी जमीन पर बैठकर फ़रियाद करते हैं तो फ़रियाद सुनने वाले को भी जमीन पर बैठकर ही फ़रियाद सुनना चाहिए ताकि उसे समस्याएं और परेशानियां महसूस हों। महसूस होने पर ही उनका समाधान उचित तरीके से किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जमीन पर बैठने से सेहत भी ठीक रहती है और लोगों से जुड़ाव भी बना रहता है।

तेजप्रताप यादव के दांपत्य जीवन में मीडिया का दखल

तलाक पर नहीं बदला तेजप्रताप का मन…

22 दिन बाद तेजप्रताप ने किया यह ट्वीट

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.