उज्जैन और ओंकारेश्वर में उमड़ा भक्तों का सैलाब

0

विगत एक माह से चल रहे धार्मिक आयोजनों एवं उत्सवों का समापन सर्वार्थसिद्धि योग के विशिष्ट संयोग में आई ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या पर बुधवार को हुआ। इस मौके पर सभी धार्मिक स्थलों पर भक्तों का सैलाब उमड़ा| विशेषकर प्रदेश के उज्जैन तथा ओंकारेश्वर में भक्तों का तांता लगा रहा| वहां श्रद्धालुओं ने स्नान, दर्शन तथा दान करके  पुण्यलाभ लिया|

उज्जैन में नवनारायण और 84 महादेव मंदिर में दर्शनार्थियों का तांता लगा रहा तथा रामघाट और सिद्धवट पर पितरों की तृप्ति व पद वृद्धि के लिए श्रद्धालुओं ने तर्पण और पिंड दान किया। ज्योतिर्लिंग महाकाल, गोपाल मंदिर, हरसिद्धि, चारधाम मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। गोपाल मंदिर, छत्री चौक, सतीगेट आदि बाजारों में रौनक छाई रही।

दूसरी ओर ओंकारेश्वर में करीब 70 हजार श्रद्धालु स्नान के लिए पहुंचे| भीड़ अधिक होने के कारण दर्शन के लिए मंदिर से करीब 300 मीटर दूर शिवपुरी बाजार तक लाइन लग गई|  प्रशासन द्वारा सामान्य दो द्वारों के साथ ही विशेष द्वार से दर्शन कराने की व्यवस्था करने के बाद भी करीब डेढ़ से दो घंटे तक कतार लगने के बाद श्रद्धालु भोलेनाथ के दर्शन कर पाए। यहां सुबह से ही केवलराम घाट, कोटितीर्थ घाट, नागर घाट, गोमुख घाट, चक्रतीर्थ घाट, नर्मदा-कावेरी संगम घाट सहित अन्य घाटों पर स्नान करने के लिए श्रद्धालु पहुंचने लगे थे। नर्मदा में भरपूर पानी होने से स्नान करने में श्रद्धालुओं को कोई परेशानी नहीं हुई।

ओंकारेश्वर मंदिर ट्रस्ट के सहायक कार्यपालन अधिकारी अशोक महाजन ने बताया कि आम दिनों में मंदिर के पट सुबह 4.30 बजे खोल दिए जाते हैं। अमावस्या पर उमड़ी भीड़ को देखते हुए मंदिर के पट आधे घंटे पहले 4 बजे ही खोल दिए गए थे। प्रशासन द्वारा सभी चार पहिया वाहनों के भगवान आदि गुरु शंकराचार्य तिराहे से नगर प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया था। इन वाहनों को कुबेर भंडारी मंदिर श्री पंचायती निरंजनी अखाड़ा मैदान पर पार्क करवाया गया।

Share.