सवर्ण आंदोलन को लेकर बयान पर उज्जैन विधायक ने दी सफाई

0

उज्जैन के विधायक मोहन यादव ने सवर्ण आंदोलन को लेकर एक बयान दिया था, जिसके बाद उज्जैन सहित प्रदेशभर में उनके बयान की आलोचना हो रही थी। इस बयान को लेकर अब उज्जैन विधायक ने सफाई दी है। विधायक ने ट्वीट कर अपने बयान को लेकर सफाई दी। उन्होंने कहा कि उनके बयान को तोड़कर पेश किया गया है। अपनी सफाई में विधायक मोहन यादव ने कहा, “मैंनें कभी भी ऐसा नहीं कहा कि करणी सेना, स्वर्ण और पिछड़ों के आंदोलन में विदेशी फंड का इस्तेमाल हो रहा है। मैंने यह ज़रूर कहा कि हिंदुओं को बांटने के लिए विदेशी ताकतें सक्रिय हो गई हैं। मेरे बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है।”

बीते दिनों विधायक मोहन यादव का एक बयान सामने आया था, जिसमें वे यह कहते नज़र आए थे कि हिंदुओं को बांटने के लिए विदेशी ताकतें सक्रिय हो गई हैं। इस पूरे मामले को इस बात से भी जोड़ा जा रहा था कि एट्रोसिटी एक्ट आर्थिक आधार पर आरक्षण को लेकर जो प्रदर्शन हो रहे हैं, उसमें विदेशी फंडिंग हो रही है, पूरे मामले में कई बातें और उछलीं । इसके बाद विधायक मोहन यादव ने एक बार फिर सामने आकर सफाई दी है ।

उनका कहना है कि देश की एजेंसियां विदेशी फंडिंग रोकने और विदेशी ताकतों के खिलाफ कार्रवाई करने में सक्षम हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बहुसंख्यक वर्ग को एकजुट होने की ज़रूरत है । वर्तमान समय में अलग-अलग मुद्दों पर बहुसंख्यक कई भागों में बढ़ते नज़र आ रहे हैं, यह दुखद है। विधायक मोहन यादव ने कहा कि उनके बयान को जिस प्रकार से तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा है, वह गलत है।

गौरतलब है कि चुनावी वर्ष है और कोई भी नेता बहुसंख्यक खासकर सामान्य और पिछड़ा वर्ग की नाराज़गी नहीं झेलना चाहता है। इसी वजह से भले ही राजनेता खुलकर सपाक्स व अन्य संगठनों का साथ नहीं दे रहे हों, लेकिन उनका विरोध भी नहीं कर पा रहा है।

ST/SC एक्ट को लेकर सीएम शिवराज पर लगा बदसलूकी का आरोप

SC-ST ACT:  संशोधन को राष्ट्रपति की मंजूरी, फुले का विरोध

Share.