भारत-पाक: यहां गोलियां नहीं रुपया बरसता है

0

हमने भारत-पाकिस्तान के बीच लड़ाई की कई ख़बरों के बारे में सुना है| दोनों देशों के बीच युद्ध की वजह से कई बेगुनाह बलि चढ़ जाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि दोनों देशों के बीच सिर्फ गोलियां ही नहीं बरसती है| एक ऐसी जगह है, जहां रुपयों की भी बरसात होती है|

भारत प्रशासित कश्मीर और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर से दोनों देशों के बीच व्यापार किया जाता है| वहां कई दूसरे देश से आने वाले ट्रक की राह तकते रहते हैं| दोनों देशों के बीच वर्ष  2008 में सीबीएम (कॉन्फिडेंस बिल्डिंग मेजर्स यानी भरोसा बहाल करने के लिए उठाए जाने वाले कदम) के तहत व्यापार शुरू किया गया था|

दोनों देशों के लगभग 250 व्यापारी यहां व्यापार करते हैं| सीमा पर कुल 21 चीज़ों का व्यापार होता है, जिनमें भारत प्रशासित कश्मीर के उड़ी, सलामाबाद से मुज़फ़्फ़राबाद जाने वाले रास्ते पर हफ्ते में चार दिन पाकिस्तान के लिए माल से लदे ट्रक रवाना होते हैं| इनमे भारत प्रशासित कश्मीर से केले, अनार, अंगूर, मसाले, कढ़ाई की हुई चीज़ें, शॉल, कश्मीरी आर्ट के दूसरे आइटम और मेडिसिन हर्ब्स पाकिस्तान को भेजे जाते हैं| वहीं पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर से बादाम, कीनू, हर्बल प्रोडक्ट, कपड़ा, आम, सेब, सूखे मेवे, खुबानी, कालीन जैसी चीज़ें भारत आती हैं|

अब तक 5200 करोड़ रुपए का व्यापार

दोनों देशों के बीच में व्यापार शुरू होने के बाद अब तक 5200 करोड़ रुपए का कारोबार हो चुका है| इसमें से 2800 करोड़ रुपए का एक्सपोर्ट और 2400 करोड़ रुपए का इम्पोर्ट है|

भारत-पाकिस्तान की तरफ़ से शुरू किए गए इस ट्रेड सेंटर पर 35 साल के इम्तियाज़ पिछले छह साल से मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पाल रहे हैं| उन्होंने बताया कि जब वे स्कूल में पढ़ते थे, तब भारत-पाकिस्तान ने एलओसी ट्रेड शुरू किया था| दस साल पहले शुरू किए गए एलओसी ट्रेड ने उनकी रोज़मर्रा की ज़िंदगी को थोड़ा बहुत ज़रूर बदल दिया है| पढ़े-लिखे नौजवानों को इस कारोबार से काफी फायदा मिला है| यहां जो बेरोज़गार थे, कम से कम उनको तो रोज़गार मिला है|

 

यह खबर भी पढ़े- पीएम: 3 आफ्रीकी देशों की यात्रा पर रवाना पीएम, देंगे ख़ास तोहफा

यह खबर भी पढ़े – भाजपा-शिवसेना फिर आमने-सामने

यह खबर भी पढ़े – गुड गवर्नेंस में टॉप पर यह राज्य, बिहार सबसे नीचे

Share.