website counter widget

election

ताप्ती रेंज के कई गांवों में बाघ का खौफ

0

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आदमखोर बाघिन अवनि को मारा गया था| उसकी मौत के बाद महाराष्ट्र की सीमा के आसपास के लोगों ने खुशियां मनाई थी| अब मध्यप्रदेश के एक जिले में बाघ का खौफ शुरू हो गया है| दरअसल, प्रदेश के बैतूल जिले की ताप्ती नदी के किनारे स्थित कई गांवों में पिछले 4 दिनों से बाघ की दहशत है| वहां के लोग खौफ के कारण घर से निकलने में भी डर रहे हैं|

जानकारी के अनुसार, राजोला गांव के पास बाघ के पगमार्क मिलने और देहगुड़ के पास बाघ देखे जाने की बात से उसकी मौजूदगी साफ हो गई है| गांववालों का कहना है कि बाघिन अभी तक एक बछड़े और एक गाय का शिकार कर चुकी है| वहीं वन विभाग इस बात को मानने से मना कर रहा है कि किसी जानवर का शिकार हुआ है| इसके पहले भी आठनेर क्षेत्र के कुछ गांवों में बाघ के कारण दहशत फैली थी| तब भी गांववालों ने वन विभाग के अधिकारियों से संपर्क किया था, लेकिन उस समय भी वन विभाग के अधिकारियों ने बाघ होने से इनकार कर दिया था|

अब बाघ होने की सूचना मिलने के बाद विभागीय अमले ने राजोला और भैंसाघाट पर जांच की है| वहां पर बाघ के पैरों के निशान मिले हैं| बोरगांव के पास स्थित लायवानी में भी बाघ दिखने की सूचना मिली है| चिचढाना के गोविंद अहाके ने बताया कि उनकी गाय और श्रीराम नवड़े के बछड़े का बाघ ने शिकार कर लिया| ग्रामीणों का कहना है कि सेलगांव के शारद धुर्वे के एक बछड़े को भी बाघ ने दबोच लिया था, लेकिन वह भागने में सफल हो गया| उसके गले पर बाघ के नाखून और दांतों के निशान होने की बात कही जा रही है| वहीं वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अब तक कहीं शिकार की पुष्टि नहीं हुई, बाघ को तलाशा जा रहा है|

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.