अमरीका के घर में ज़िंदा जले भारतीय बच्चे

0

क्रिसमस के जश्न के दो दिन पहले अमरीका के एक घर में आग लगने से 3 भारतीय बच्चों सहित 4 लोगों की मौत हो गई। तीनों भारतीय बच्चे सगे भाई-बहन थे। तीनों की उम्र 14 से 17 साल के बीच बताई जा रही है। क्रिसमस का जश्न मनाने के लिए क्रिसमस से दो दिन पहले ही ये तीनों बच्चे, कोल्लिरविले की रहने वाली कारी कॉड्रिट के घर पहुंचे थे। रात तकरीबन 11 बजे कारी के घर अचानक आग लग गई। जिस वक़्त आग लगी, उस वक़्त कारी के पति और उनके बेटे भी मौजूद थे, लेकिन वे घर से बाहर निकलने में कामयाब रहे। इस आग की चपेट में आ जाने से 3 भारतीय बच्चों की मौत हो गई।

चर्च की तरफ से जारी बयान में बताया गया कि बच्चे मिशनरी परिवार से थे। कारी के पति और बेटे का इलाज चल रहा है, जो जल्द ठीक हो जाएंगे। मृतक बच्चों के पिता का नाम श्रीनिवास नाइक और मां का नाम सुजाता बताया गया है। श्रीनिवास अमरीका में बतौर पादरी कार्य करते थे और पिछले साल ही वे वापस तेलंगाना आ गए थे। वे तेलंगाना के नालगोंडा जिले के रहने वाले हैं।

श्रीनिवास के लौटने पर उनके बच्चे पढ़ाई के लिए मिसिसिपी में फ्रेंच कैंप अकेडमी में रुक गए थे और क्रिसमस मनाने के लिए अन्य बच्चों समेत कारी के घर पहुंचे थे। घर में लगी आग पर 20-30 मिनट बाद काबू पाया जा सका, लेकिन घर से लगातार धुआं निकल रहा था। फिलहाल आग लगने के कारणों का पता नहीं चल सका है। वहीं जानकारी के अनुसार, उस दिन घर में काफी बच्चे मौजूद थे, लेकिन कुल संख्या के बारे में ठीक से कुछ पता नहीं चला है।

Share.