देश का पहला ऐसा राज्य, जहां महिलाओं के नाम होती है एक रुपए में रजिस्ट्री

0

आज के आधुनिक दौर में महिलाएं पुरुषों से कम नहीं है। महिला विकास के लिए अलग-अलग राज्य सरकार और साथ में केंद्र सरकार अच्छी और कारगर योजनाएं ला रही हैं, जिन्हें काफी प्रोत्साहन भी मिल रहा है। झारखंड सरकार ने इसी कड़ी में एक नया नियम लागू किया है, जिसे अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। इस नियम का असर यह हुआ कि महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए पिछले वर्ष जब झारखंड सरकार ने इनके नाम रजिस्ट्री एक रुपए में करवाने का ऐलान किया तो महिलाओं के नाम हो रही रजिस्ट्री में पहले के मुकाबले 47 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई।

इस नियम के तहत ज़मीन की रजिस्ट्री करवाने वाली सबसे पहली महिला जयंती वर्मा है। जब वे रजिस्ट्री करवाकर रांची के रजिस्ट्रार कार्यालय से बाहर आई तो उन्होंने ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह पहली प्रापर्टी है, जो मेरे नाम से रजिस्ट्री हुई है। मेरे नाम से रजिस्ट्री कराने की वजह भले ही पैसे की बचत करना रहा हो, पर आज हम 49 लाख रुपए संपत्ति की मालकिन बन गए हैं।”

सिर्फ इतना ही नहीं, इसके बाद से लगभग 65 प्रतिशत महिलाओं का जमीन पर मालिकाना हक़ हो चुका है। इस योजना के तहत जमीन से लेकर मकान तक की सम्पत्ति यदि 50 लाख रुपए तक है तो महिला के नाम एक रुपए में रजिस्ट्री होगी। इस योजना के नियम एवं शर्तों के अंतर्गत एक रुपए में रजिस्ट्री का लाभ किसी भी महिला को सम्पत्ति खरीदने में सिर्फ एक बार ही मिलेगा।

झारखंड में राज्य सरकार की तरफ से दिन-प्रतिदिन महिलाओं को सबल बनाने की दिशा में कई अहम फैसले लिए गए हैं, जिसमें से महिलाओं के नाम एक रुपए रजिस्ट्री भी एक अहम फैसला शामिल है।

Share.