इंदौर में चोरों का आतंक

0

इंदौर में चोरों के हौसले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं। पुलिस के सामने देवगुराड़िया इलाके में हायवा (डंपर) चोर चुनौती बने हुए हैं। पहले से कई हायवा (डंपर) चोरी होने के मामले दर्ज थे वहीं दो और हायवा (डंपर) चोरी हो गए। पुलिस के हाथ अभी तक कोई सुराग नहीं लगा है, परंतु इनके मालिकों का कहना है कि उनके हायवा (डंपर) मंदसौर के आगे गए हैं।

देवगुराड़िया में कुछ दिनों पहले रेत कारोबारी भरत गर्ग का नया हायवा (डंपर) चोरी हो गया था। जीपीएस लगा होने के बावजूद चोर उसे ले गए। अब तक न चोर मिले, न हायवा (डंपर)। इस बीच राऊ में रहने वाले लखन पटेल का हायवा (डंपर) भी हीरो शोरूम के सामने से चोरी हो गया। इसमें भी जीपीएस लगा था। पटेल ने रात तीन बजे गाड़ी खड़ी की और घर चला गया। जब वह सुबह आया तो देखा गाड़ी नहीं थी। इसकी रिपोर्ट थाना खुड़ैल में की गई। वहीं दूसरा हायवा (डंपर) नेमावर रोड पर पार्किंग से गायब हो गया। रजत शर्मा ने इसकी रिपोर्ट थाना आज़ादनगर में दर्ज करवाई। बता दें कि यहां गाड़ियां खड़ी करने के लिए 200 रुपए शुल्क लिया जाता है। पार्किंग का पैसा देने के बाद भी उनका हायवा (डंपर) चोरी हो गया। उनकी गाड़ी केवल 500 किलोमीटर चली थी।

हायवा (डंपर) के मालिकों ने रिपोर्ट लिखवाने के साथ ही खुद भी चोरों को ढूंढने की कोशिश की। इससे  पता चलता है कि हायवा (डंपर), मंदसौर टोल नाके से गुजरकर आगे नहीं गया है। इससे आगे के नाकों पर नहीं दिखे इसलिए अंदाजा लगाया जा रहा है कि ये कहीं आसपास ही छिपा दिए गए हैं परंतु पुलिस की ढील-पोल के कारण कोई चोर अभी तक हाथ नहीं लगा।

वहीं भरत गर्ग उनकी हालत ये है कि नया खरीदा हायवा (डंपर) चोरी हो जाने से वे बैंक की किश्त नहीं भर पा रहे हैं। पूरा परिवार परेशान है।

Share.