website counter widget

‘तंदूर मर्डर केस’ में बड़ा फैसला

0

वर्ष 1995 में हुए ‘तंदूर मर्डर केस’ में आज यानी शुक्रवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है| कोर्ट ने इस मामले के आरोपी सुशील शर्मा को तुरंत रिहा करने का आदेश दिया गया है| आरोपी 1995 में अपनी पत्नी नैना साहनी की हत्या कर बगिया रेस्टोरेंट के तंदूर में उसके शव को जलाने के मामले में सज़ा काट रहा था|

कोर्ट में आज सवाल पूछा गया कि क्या किसी कैदी को अनिश्चितकाल तक जेल में बंद रखा जा सकता है, खासकर तब जब वह 29 साल की सज़ा काट चुका है| अदालत ने यह सवाल युवा कांग्रेस के पूर्व नेता सुशील कुमार शर्मा की याचिका पर सुनवाई करते हुए उठाया| शर्मा ने रिहाई की मांग करते हुए याचिका दायर की थी|

जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और एसडी सहगल की बेंच ने सरकार से यह बताने के लिए कहा था कि 29 साल की सज़ा पूरी कर चुके शर्मा को क्यों नहीं रिहा किया गया| बैंच ने कहा था कि यह कैदी के मानवाधिकार से संबंधित है, लिहाजा यह बेहद गंभीर है| कांग्रेस नेता सुशील शर्मा ने अपनी पत्नी नैना साहनी की क्रूरता से हत्या कर दी थी| सत्ता के नशे में चूर पति ने अपनी पत्नी को शक के आधार पर न केवल मारा बल्कि उसके शरीर के टुकड़े- टुकड़े करके तंदूर में फूंक डाला था| आरोप तय होने के बाद से ही वह जेल में सज़ा काट रहा है|

पेट्रोल-डीज़ल – आज का भाव

इस स्कूल को देख उड़ जाएंगे होश

लिबास पर बवाल

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.