website counter widget

करोड़ों युवाओँ की प्रेरणा बने स्वामी विवेकानंद जी की जयंती आज

0

आज स्वामी विवेकानंद जी की जयंती (Swami Vivekananda Birth Anniversary 2019) है | उनका जन्म 12 जनवरी सन्‌ 1863 को हुआ। उनका घर का नाम नरेंद्र दत्त था। उनके पिता श्री विश्वनाथ दत्त था | नरेंद्र की बुद्धि बचपन से बड़ी तीव्र थी | सन्‌ 1884 में पिता की मृत्यु के बाद घर का भार नरेंद्र के कंधो पर आ गया | रामकृष्ण परमहंस की प्रशंसा सुनकरआप उनके शिष्य बने | और कम समय में ही स्वामी विवेकानंद परमहंसजी के शिष्यों में प्रमुख हो गए। संन्यास लेने के बाद इनका नाम विवेकानंद हुआ।एक समय जा परमहंस बेहद बीमार थे तब किसी ने गुरुदेव की सेवा में घृणा और लापरवाही दिखाई तथा घृणा से नाक भौंहें सिकोड़ीं।

Image result for swami vivekananda

यह देखकर विवेकानन्द को गुस्सा आ गया। उस गुरुभाई को पाठ पढ़ाते हुए और गुरुदेव की प्रत्येक वस्तु के प्रति प्रेम दर्शाते हुए उनके बिस्तर के पास रक्त, कफ आदि से भरी थूकदानी उठाकर पूरी पी गए। अपने गुरु के शरीर और उनके आदर्शों की उत्तम सेवा करते थे | सन्‌ 1893 में शिकागो (अमेरिका) में विश्व धर्म परिषद् हो रही थी। स्वामी विवेकानंदजी उसमें भारत के प्रतिनिधि के रूप से पहुंचे। एक अमेरिकन प्रोफेसर के बाद जब उन्होंने वह अपने विचार रखे तो सभी विद्वान चकित हो गए|

Image result for swami vivekananda

‘अध्यात्म-विद्या और भारतीय दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जाएगा’ यह स्वामी विवेकानंदजी का दृढ़ विश्वास था| स्वामी जी का निधन 4 जुलाई सन्‌ 1902 को हुआ | वे सदा अपने को गरीबों का सेवक कहते थे| भारत के गौरव को देश-देशांतरों में उज्ज्वल करने का उन्होंने सदा प्रयत्न किया| उनकी म्हणता के किस्से और जीवन की सोख आज करोड़ो युवाओँ के लिए प्रेरणा है |

अभिषेक

पहली महिला शिक्षक थीं सावित्रीबाई फुले…

Ramakant Achrekar Death : बदल दिया सचिन का जीवन 

मप्र की इन हस्तियों ने कहा, दुनिया को अलविदा…

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.