website counter widget

चमत्कार ही बचाएगा बदनसीबों को…

0

मेघालय के जयंतिया हिल्स में पिछले साल के अंतिम महीने में खदान धस गई थी| उसमें कई मजदूर खदान में फंस गए थे| कई दिन बीत जाने के बाद भी पहले तो मजदूरों को बाहर निकालने के लिए कोई कोशिश नहीं की गई| कई दिनों बाद जब मजदूरों को बाहर निकालने का काम शुरू किया गया, तो उसमें भी धीमी गति दिखाई गई| सफ़ेद और नीली कॉलर के लोगों की वजह से नाबालिग मजदूरों को बाहर निकालने में लापरवाही बरती गई | अब जब यह मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच चुका है तो वहां कोर्ट ने भी किसी चमत्कार होने की बात कही| इतने दिन बाद भी वे मजदूर बिना खाए-पिए ज़िन्दा तो होंगे नहीं, फिर भी कोर्ट किसी चमत्कार का इंतज़ार कर रही है|

चमत्कार के इंतज़ार में कोर्ट

जानकारी के अनुसार, शुक्रवार को केंद्र और मेघालय सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि पूर्वी जयंतिया हिल्स में खदान में फंसे खनिकों को निकालने के लिए विशेषज्ञों की मदद ली जाएं| जस्टिस ए. के. सीकरी की पीठ ने कहा, “चमत्कार भी होते हैं, रेस्क्यू की कोशिशें जारी रखें| क्या पता कम से कम कुछ खनिक अब भी जिंदा हों?|”

मेघालय सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि फंसे हुए खनिकों को निकालने के लिए नेवी ने रिमोट से चलने वाले 5 वाहनों को लगाया है| गौरतलब है कि 13 दिसंबर को 370 फीट गहरे कोयला खदान में नदी का पानी भर जाने से सुरंग का रास्‍ता बंद हो गया था| तब खदान में 15 खनिक फंस गए थे| हादसे से दो दिन पहले 11 दिसंबर को पूर्वी जयंतिया जिले में एक और अवैध कोयला खदान में भी दो खनिकों के शव मिले थे| इस मामले में 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया है| नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल ने असुरक्षित खनन पर 2014 से प्रतिबंध लगा रखा है| – रंजीता

मेघालय में फंसे मजदूरों को ये बचाएंगे

क्या ज़िन्दा होंगे खदान में फंसे मजदूर ?

खदान में फंसे मजदूरों का मामला पहुंचा SC

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.