गुटखा और पान मसाला पर लगा प्रतिबंध

0

देहरादून: तंबाकू पर प्रतिबंध लगाने के बाद अब उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने गुटखा जैसे पदार्थों और तंबाकू एवं निकोटिन की उच्च मात्रा वाले पान मसाला के उत्पादन, भंडारण, वितरण और बिक्री को पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया है. खाद्य सुरक्षा आयुक्त नितेश कुमार झा ने शुक्रवार की शाम इस संबंध में एक आदेश जारी किया. यह फैसला तंबाकू एवं निकोटिन युक्त गुटखा और पान मसाला जैसे पदार्थों के मानव स्वास्थ्य पर पड़ने ख़राब प्रभाव के कारण लिया गया है।

जानकारी के अनुसार जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि खाद्य सुरक्षा एवं मानक विनियम 2011 के तहत प्रदेश में तंबाकू उत्पादों की बिक्री पर प्रतिबंध है. इसके बावजूद प्रदेश में पान मसाला के साथ छोटे-छोटे पैकेट में तंबाकू बेचा जा रहा है. इसी को देखते हुए तंबाकू के पैकेट और निकोटिन युक्त गुटखा के निर्माण, भंडारण और बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.


प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने इसे शुरुआत बताया है. उन्होंने कहा कि एक साल तक प्रतिबंध लगाकर हमें देखना है की क्या परिणाम आते है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा ग्रहण करने के लिए दूर-दराज से विद्यार्थियों का आगमन होता है, जिससे वे अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकें. उन्होंने कहा कि तंबाकू उत्पाद और उनका सेवन उन युवाओं को नशे की गर्त में धकेल देता है.
सरकार के इस फैसले को लेकर लोगों की राय मिश्रित है. अधिकतर लोगों ने इस फैसले को अच्छा बताया, लेकिन चुनौतियां का जिक्र भी कर डाला. लोगों ने इसे रोकने के लिए पुलिस की ईमानदार पहल को भी आवश्यक बताया और कहा कि इस तरह का फैसला पहले भी लिया गया था, लेकिन शासन-प्रशासन उस पर अमल कराने में नाकाम रहा.

-Mradul tripathi

Share.