Unnao Rape Case : छात्रा के सवाल ने की पुलिस अधिकारी की बोलती बंद

0

उन्नाव रेप केस की चर्चा लगातार सुर्ख़ियों में बनी हुई है। सुप्रीम कोर्ट ने इस 45 दिनों के अंदर इस मामले का निपटारा करने का आदेश भी जारी कर दिया है। लेकिन इस केस का हवाला देते हुए उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी से महिला सुरक्षा को लेकर सवाल करना एक 11वीं छात्रा को भारी पड़ गया। दरअसल छात्रा द्वारा महिला सुरक्षा को लेकर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी से सवाल पूछे गए थे। इसके बाद छात्रा के परिजन काफी डरे हुए हैं और इसी वजह से उन्होंने छात्रा का स्कूल जाना भी बंद कर दिया है।

वीर शहीद अब्दुल हमीद की पत्नी रसूलन बीबी का निधन

https://www.facebook.com/shivamvij/videos/10157454886445522/

गौरतलब है कि छात्रा द्वारा पुलिस अधिकारीयों पूछे गए सवालों का वीडियो सोशल वीडियो पर वायरल हुआ था। इस वीडियो में यह देखा गया था कि छात्रा के सवालों पर पुलिस अधिकारियों ने चुप्पी साध ली थी। वहीं इस घटना के बाद से छात्रा के परिजन अपनी बेटी की सुरक्षा को लेकर बेहद डरे हुए हैं। उनके इसी डर की वजह से छात्रा अब स्कूल भी नहीं जा पा रही है। वहीं परिजन का कहना है कि वे सोमवार को पहले स्कूल के प्रिंसिपल से मुलाक़ात करेंगे और फिर तभी निर्धारित करेंगे कि छात्रा को दोबारा कब से स्कूल भेजा जाए।

आतंकियों के निशाने पर अमरनाथ यात्री, घाटी छोड़ने की सलाह

लड़की के पिता का कहना है वह अभी छोटी है और भोली है उसे किसी बात के बारे में कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी में जो न्यूज देखी, जो पेपर में पढ़ा वही बोलै है। वहीं छात्रा के स्कूल को और वहां के सभी छात्रों को उस पर गर्व है। गौरतलब है कि बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान कार्यक्रम के तहत एडिशनल सुपरिंटेंडेंट ऑफ पुलिस (नॉर्थ) रामसेवक गौतम बाराबंकी स्थित स्कूल पहुंचे थे। इस कार्यक्रम के तहत वे स्कूल की छात्राओं से बात कर रहे थे। उन्होंने छात्राओं को एक टोल फ्री नंबर भी दिया था ताकि छात्राएं उनसे बात कर सकें। इसी दौरान 11 वीं की एक छात्र ने उनसे सवाल किया था कि, ‘‘अगर पीड़ित आम आदमी है तो हम प्रदर्शन कर सकते हैं, लेकिन अगर वह नेता है और ताकतवर शख्स है तो उसका विरोध कैसे किया जा सकता है?”

इतना ही नहीं छात्रा ने आगे सवाल किया कि, हम यह जानते हैं कि अगर हम किसी हाई प्रोफाइल व्यक्ति के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे तो उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी।” छात्रा ने उन्नाव केस का हवाला देते हुए कहा कि, “हमने देखा कि उन्नाव की लड़की अस्पताल में है। ऐसे में अगर हम विरोध जताते हैं तो इस बात की क्या गारंटी है कि हमें न्याय मिलेगा? क्या गारंटी है कि हम सुरक्षित रहेंगे? क्या गारंटी है कि हमारे साथ कुछ नहीं होगा?’’ छात्रा के इस सवाल को सुनकर स्कूल के सभी बच्चे उसकी तारीफ कर रहे हैं और उसे सराह रहे हैं वहीं पुलिस अफसर की बोलती बंद हो गई। पुलिस अफसर छात्रा के सवाल पर सिर्फ इतना ही बोल पाए कि टोल फ्री नंबर पर जो शिकायत की जाएगी उसे मदद जरूर मुहैया करवाई जाएगी।

रेलवे स्टेशन पर अब नहीं दिखेंगे भिखारी

Share.