website counter widget

प्रसव के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

0

डॉक्टरों की लापरवाही कई मासूमों की जिंदगी ख़त्म कर देती है। कई बार डॉक्टरों की लापरवाही के कारनामे उजागर होते रहते हैं। इसी तरह का एक मामला उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सामने आया है। कन्नौज जिले के राजकीय मेडिकल कॉलेज से एक ऐसी लापरवाही का मामला सामने आया है जिसने सभी को हिला कर रख दिया है। दरअसल इस मेडिकल कॉलेज एक महिला प्रसव (Child Has Two Pieces During Delivery In UP) पीड़ा से तड़प रही थी। लेकिन मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर नदारत थे। महिला को तड़पते हुए देख स्टाफ नर्स ने प्रसव कराने की कोशिश की और उसमे नवजात की मौत हो गई।

पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो… 

Image result for प्रसव के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

दरअसल डॉक्टर की अनुपस्थिति में स्टाफ नर्स द्वारा एक प्रसव करवाया जा रहा था। प्रसव के दौरान बच्चा पेट में ही फंस गया। स्टाफ नर्स ने काफी मशक्कत की लेकिन जब बच्चा बाहर नहीं आया तो नर्स ने जोर लगाकर बच्चे को बाहर निकालने की कोशिश की। जैसे ही नर्स ने जोर लगाया तो बच्चे की गर्दन ही धड़ से अलग हो गई (Child Has Two Pieces During Delivery In UP)। बच्चे की गर्दन नर्स के हाथ में थी और बाकी का धड़ महिला के पेट में रह गया। महिला की हालत ज्यादा बिगड़ गई तो तत्काल ही उसे एक निजी अस्पताल में ले जाया गया। इसके बाद निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर महिला के पेट से नवजात का बाकी का हिस्सा निकाला गया।

कुत्ते के बच्चे से सेक्स करने के लिए पत्नी को करता था मजबूर

Related image

मिली जानकारी के अनुसार कन्नौज जिले के ठठिया थाना क्षेत्र के एक गांव सिसइयनपुरवा के रहने वाले पुनीत की 25 वर्षीय पत्नी सीमा देवी को पेट में तेज दर्द उठा। जब प्रसव पीड़ा ज्यादा बढ़ गई तो सुबह तकरीबन साढ़े सात बजे उसे मेडिकल कॉलेज में दाखिल किया गया। लेकिन सुबह के वक़्त कोई भी डॉक्टर कॉलेज में उपस्थित नहीं था। परिजन के पास इंतजार करने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था। परिजन 3 घंटे तक डॉक्टर के आने की राह देखते रहे लेकिन डॉक्टर नहीं पहुंचे। डॉक्टर के नहीं पहुंचने पर सीमा को स्टाफ नर्स ने भर्ती कर प्रसव करने की कोशिश की।

Related image

जब नर्स ने सीमा का प्रसव करवाने की कोशिश की तभी नवजात का सिर नर्स के हाथ में आ गया और धड़ पेट में ही फंसा रह गया। जब इस बात का पता परिजन को लगा तो उन्होंने कॉलेज में जमकर हंगामा मचाया। जब हंगामा काफी बढ़ गया तो मेडिकल कॉलेज के कर्मचारियों ने नवजात का सिर परिजन को दे दिया और मौके से रफूचक्कर हो गए। सीमा की हालत बिगड़ता देख परिजन उसे नजदीकी निजी अस्पताल ले गए जहां ऑपरेशन कर नवजात के बाकी हिस्से को बाहर निकला गया। फिलहाल महिला की हालत स्थिर है और वह खतरे से बाहर है। सीमा के पति का आरोप है कि मेडिकल कॉलेज और उसके डॉक्टरों की लापरवाही से उसके नवजात की मौत हो गई और उसकी पत्नी की भी जान खतरे में आ गई।

मासूम का कारनामा जानकर रह जाओगे हैरान

क्या कहते है अधिकारी

इस पूरे मामले में सीएमओ डाक्टर कृष्ण स्वरूप का कहना है कि मामले की पूरी जांच कराई जाएगी। अगर कोई दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस घटना के विषय में सीएमएस दिलीप सिंह का कहना है कि नवजात की मृत्यु पेट में ही हो चुकी थी और वह पूरी तरह से गल चुका था। इतना ही नहीं उनका कहना है कि किसी दाई ने पहले प्रसव कराने की कोशिश की थी तभी प्रसव के दौरान यह सब हुआ।

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.