गोवा में गरमाई राजनीति, भाजपा के लिए बुरी खबर

0

जैसे-जैसे चुनाव नज़दीक आ रहे हैं, सभी राजनीतिक पार्टियां चुनावी तैयारियों में जुट गई हैं। गोवा की इस सियासी उठापटक के बीच ऐसी खबरें आ रही हैं, जिनसे लगता है कि भाजपा गोवा में मुश्किल में आ सकती है। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बीमार होने के बाद से ही राज्य की राजनीति में अस्थिरता का माहौल बना हुआ है। महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के विधायक दूसरी पार्टी में ज़्यादा दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

खबरों के अनुसार, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के दो विधायक कांग्रेस के संपर्क में हैं। वहीं भाजपा की आलाकमान ने गोवा के मुख्यमंत्री को बदलने से भी इंकार कर दिया है। भाजपा के पर्यवेक्षक संगठन महासचिव रामलाल मौजूदा स्थिति का जायजा लेने के लिए गोवा पहुंच गए थे। उन्होंने भी मुख्यमंत्री नहीं बदलने की बात कही है। रामलाल ने कहा,”कोर कमेटी ने सीएम बदलने से इनकार किया है। मनोहर पर्रिकर ही गोवा के सीएम बने रहेंगे। आज जो भी चर्चा हुई, उसके बारे में कल आपको जानकारी दी जाएगी। सरकार को लेकर कोई चिंता की बात नहीं है और किसी की ओर से नेतृत्व परिवर्तन की कोई मांग नहीं है।”

वहीं कुछ समय पहले गोवा विधानसभा के उपाध्यक्ष एवं बीजेपी के वरिष्ठ नेता माइकल लोबो ने मीडिया से कहा था कि पार्टी के दूत गोवा फॉरवर्ड पार्टी और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी को सुझाव देंगे कि वे भगवा पार्टी का हिस्सा बन जाएं। फिलहाल, हमारा ध्यान सदन में बीजेपी का संख्याबल 14 से बढ़ाकर 17 करने पर है।”

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का एम्स में इलाज चल रहा है। वे अमरीका से इलाज करवाकर सितंबर के पहले सप्ताह में लौटे और इसके बाद उन्हें उत्तर गोवा के कैंडोलिम स्थित एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया। साल की शुरुआत में पर्रिकर का अमरीका में तीन महीने तक लंबा इलाज चला।

क्या पद छोड़ सकते हैं मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर?

गोवा में सीएम से लेकर मंत्री तक सब बीमार

Share.