website counter widget

गुजरात और लक्षद्वीप में तबाही मचाएगा महा चक्रवात

0

वैसे तो हम सभी ने कई बार चक्रवातों के बारे में सुना और देखा है। कई बार चक्रवात बंगाल की खाड़ी या फिर गुजरात या मुंबई के तट से टकराते हैं। लेकिन एक साथ दो चक्रवात (Cyclone) देखे जाने की घटना बेहद ही दुर्लभ होती है। ऐसा ही कुछ नज़ारा देखा गया है अरब सागर (Arabian Sea) में। जी हां आपको भी यह बात जानकार हैरानी जरूर हुई होगी कि भला अरब सागर में एक साथ दो-दो चक्रवात कैसे आ सकते हैं। लेकिन यह पूरी तरह से हक़ीक़त है और इस बार अरब सागर में दो चक्रवात एक साथ बने हैं। सेटेलाइट से प्राप्त तस्वीरों में इन दोनों ही चक्रवात को एक साथ देखा जा सकता है। इन तस्वीरों से सभी हैरत में पड़ गए हैं। सेटेलाइट से जो तस्वीरें प्राप्त हुई हैं उनमे साइक्लोन ‘क्यार’  (Cyclone kyarr) औऱ साइक्लोन ‘महा’  (Cyclone Maha) एक साथ दिखाई दे रहे हैं।

इन तस्वीरों से साफ़ है कि साइक्लोन ‘क्यार’ (Cyclone kyarr) डीप डिप्रेशन की तरफ बढ़ रहा है, जबकि साइक्लोन ‘महा’ (Cyclone Maha) सीवियर साइक्लोन बनने जा रहा है। मौसम के विभाग के अनुमान के हिसाब से साइक्लोन ‘महा’ 5 नवंबर की रात रिकर्व होकर अगले दिन यानी 6 नवंबर को गुजरात के तट से ताका सकता है। हालांकि अभी मौसम विभाग ने इसकी पुष्टि पूरी तरह से नहीं की है यह सिर्फ अनुमान है। अगले दो दिन में साइक्लोन “महा” की सटीक स्थति का पता चल जाएगा इसके बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

हालांकि स्थानीय मौसम विभाग ने अनुमान लगाया है कि अरब सागर में बनने वाल  यह चक्रवात महा (Cyclone Maha) जल्द ही गंभीर रूप धारण कर लेगा और चक्रवाती तूफ़ान में तब्दील हो जाएगा। इस चक्रवाती तूफ़ान के असर से लक्षद्वीप में भारी बारिश का भी अनुमान लगाया गया है। मौसम विभाग के अनुमान के बाद सतर्कता दिखाते हुए लक्षद्वीप को रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। इस मामले में क्षेत्रीय चक्रवात चेतावनी केन्द्र के निदेशक एस बालाचन्द्रन का कहना है कि “महा चक्रवात लक्षद्वीप के ऊपर अरब सागर में केंद्रित है। इसके गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है।  यह आगे लक्षद्वीप से उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ेगा और पूर्वी-मध्य अरब सागर में प्रकट होगा।”

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.