“दुष्कर्म के दोषियों को हो मौत की सजा”

0

उन्नाव सहित देशभर में हुई दुष्कर्म की घटनाओं और महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध को लेकर अब उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपनाया है। यूपी में बढ़ रहे अपराधों को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में उन्होंने महिला सुरक्षा को लेकर गंभीर चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि नाबालिग से दुष्कर्म के दोषियों के लिए फांसी का प्रावधान होना चाहिए।

कार्रवाई के कड़े निर्देश

सीएम ने सभी मंडलायुक्तों, जोन के एडीजी और आईजी रेंज को अपराधियों और अराजक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं| उन्होंने कहा कि आपराधिक घटनाओं को रोकने के लिए सिपाही से लेकर कप्तान तक की जवाबदेही तय की जाएगी। वरिष्ठ अधिकारी इस पर निगाहें रखेंगे और लापरवाही बरतने वाले अफसरों पर सख्त कार्रवाई होगी।

वीमन पॉवर लाइन होगा बेहतर

सीएम ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाए गए 1090 वीमन पॉवर लाइन को और बेहतर बनाने के लिए डायल 100 और एंटी रोमियो स्क्वॉड से जोड़ने का फैसला लिया है। ऐसे में यदि कोई महिला वीमन पॉवर लाइन पर कॉल करती है तो डायल 100 तुरंत मौके पर पहुंच जाएगी। साथ ही गर्ल्स स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर्स और सार्वजनिक स्थलों पर एंटी रोमियो स्क्वॉड निगरानी करेगा। आपको बता दें कि मध्यप्रदेश ऐसा पहला राज्य है, जो नाबालिगों से दुष्कर्म पर मौत की सजा सुना चुका है।

पेट्रोलिंग के निर्देश

सीएम योगी ने पुलिस अधिकारियों को नियमित रूप से पेट्रोलिंग करने के भी निर्देश दिए हैं। साथ ही उन्होंने यूपी पुलिस की इमेज को सुधारने पर भी जोर दिया है ताकि कोई दागी पुलिसकर्मी थानाध्यक्ष नहीं बने।

Share.