website counter widget

पहली बर्फबारी के साथ उत्तराखंड के इलाकों में ठंड ने दी दस्तक

0

अभी तो अक्टूबर माह पूरा भी नहीं हुआ और उत्तराखंड में बर्फबारी की शुरू हो गई। दरअसल केदारनाथ और बद्रीनाथ में अभी से बेहद जबरदस्त बर्फबारी देखने को मिली। अक्टूबर माह में ही इस सीजन की पहली बर्फबारी से इलाके में ठंड काफी बढ़ गई है। ताजा बर्फबारी ने यहां आने वाले यात्रियों की मुश्किलों में इजाफा कर दिया है। अभी से केदारनाथ और बद्रीनाथ के ऊंचे-ऊंचे पहाड़ बर्फ की सफ़ेद चादरों से ढंक गए हैं। मिली जानकारी के अनुसार इस माह के आखिर तक केदारनाथ और बद्रीनाथ के कपाट बंद कर दिए जाएंगे।

हालांकि इस साल केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम की यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं में एक अलग और ख़ासा उत्साह देखने को मिला। हर बार की तरह इस बार भी ठंड बढ़ने पर मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाएंगे। इस साल मई माह में पूरे विधि-विधान और वैदिक मंत्रोच्चारण व अनुष्ठानों के बाद केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खोले गए थे। गौरतलब है कि केदारनाथ धाम भगवान शिव का और बद्रीनाथ भगवान विष्णु का धाम है।

केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट प्रतिवर्ष ठंड बढ़ने पर बंद कर दिए जाते हैं। वैसे अमूमन अक्टूबर-नवंबर माह में कपाट बंद कर दिए जाते हैं। इस बार भी अक्टूबर माह के आखिर में कपाट बंद कर दिए जाएंगे। लेकिन इस बार पहली बर्फबारी अक्टूबर माह में ही हो गई है। इस बर्फ़बारी की वजह से पूरा इलाका ठंडा हो गया है। पहली बर्फबारी होने से जहां ठंड में इजाफा हुआ है वहीं अब सैलानियों के यहां पहुंचने की उम्मीद भी बढ़ गई है। हर साल बर्फबारी का आनंद उठाने दूर-दूर से सैलानी यहां पहुंचते हैं। इसके अलावा केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट अप्रैल-मई में पुनः खोल दिए जाते हैं।

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.