छात्र ने बनाया डीजीपी का फेक ट्विटर अकाउंट

0

10वीं में पढ़ने वाले एक छात्र की उत्तरप्रदेश पुलिस हर बात मान रही थी। दरअसल छात्र यूपी डीजीपी के नाम से ट्विटर अकांउट चला रहा था। इस अकाउंट के जरिये वह पुलिस वालों को जरूरी दिशा-निर्देश दे रहा था।

यह है पूरा मामला

दरअसल, कुछ समय पहले गोरखपुर के इस लड़के के भाई से किसी जालसाज ने विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर 45,000 रुपए ऐंठ लिए थे। इस मामले में जालसाज से पैसे वापस निकालने के लिए छात्र ने यह खेल खेला। छात्र के दोस्त ने उसे फेक ट्विटर अकाउंट बनाने का आइडिया दिया था।

अकाउंट बनाते ही फायदा हुआ

छात्र ने डीजीपी ओपी सिंह के नाम से एक फर्जी ट्विटर हैंडल बनाया। इस अकाउंट में डीजीपी का नाम भी लिखा हुआ था और उनकी तस्वीर भी लगी हुई थी। इतना ही नहीं छात्र ने पुलिस वालों को निर्देश देकर उसके परिवार के साथ हुई धोखाधड़ी के मामले में कार्रवाई भी करवाई। निर्देश मिलते ही पुलिस ने इस मामले में आरोपी जालसाज अंसारी को पकड़कर करीब 30,000 रुपए वापस करवा दिए। आरोपी ने बची हुई रकम भी जल्द ही वापस करने का वादा किया है।

ऐसे आए छात्र पकड़ में

जब गोरखपुर एसएसपी ने कार्रवाई पूरी होने पर डीजीपी को इस बात की जानकारी दी तब पता चला कि डीजीपी ने इस तरह का कोई आदेश नहीं दिया था। इसके बाद डीजीपी कार्यालय की तरफ से हजरतगंज थाने में फर्जी ट्विटर अकाउंट को लेकर मुकदमा दर्ज करवाया गया। जांच कर रही साइबर सेल ने ट्विटर अकाउंट पर दिए मोबाइल नंबर से आरोपी छात्र को पकड़ लिया।

Share.