आईआईटी के नाम पर राजनीति बंद करो

0

आईआईटी के कुछ छात्रों ने मिलकर दलित और पिछड़े वर्ग के लिए ‘बहुजन आज़ाद पार्टी’ की घोषणा की थी| इस पार्टी के पंजीयन के लिए उन्होंने चुनाव आयोग से भी अपील कर दी| अब इसका दूसरे छात्रों द्वारा विरोध किया जा रहा है|

छात्रों का कहना है कि आईआईटी के छात्र जाति के नाम पर पार्टी बनाकर जातिवाद को बढ़ावा दे रहे हैं| धनबाद आईआईटी आईएसएम (इंडियन स्कूल ऑफ माइंस) के छात्रों ने ‘बाप’ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है| उन्होंने आगे कहा कि आईआईटी के सभी छात्र टेक्नो फ्रेंडली माहौल में रहते हैं| यहां कभी किसी से जाति नहीं पूछी जाती है|  कुछ लोग आईआईटी के नाम पर राजनीति कर रहे हैं और इसे बदनाम करना चाहते हैं| उनकी मंशा पूरी नहीं होने देंगे|

छात्रों ने ‘बाप’ पार्टी के मुखिया नवीन कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें राजनीति के लिए बहुत शुभकामनाएं, वे जितनी चाहें, राजनीति करें| वे आरोप लगाते हैं कि उनके साथ भेदभाव हुआ, उनको प्रोजेक्ट नहीं मिले तो उन्हें इसकी शिकायत अनुसूचित जाति, जनजाति या फिर पिछड़ा आयोग में करनी चाहिए थी|

पार्टी का विरोध कर रहे छात्र प्रिंस हर्ष, हिमांशु मिश्रा ने कहा कि फेसबुक पर हमने बात करने की कोशिश की और उनको डिबेट के लिए बुलाया भी था, कहा कि यदि आप फेसबुक या अन्य माध्यमों से डिबेट करना चाहते हैं तो हम तैयार हैं|

Share.