website counter widget

बिहार में चांदी की बारिश से गरीबों की चांदी

0

सीतामढ़ी – इस बार देश के अधिकांश राज्यों में भारी बारिश (Heavy Rain) ने भयंकर तबाही मचाई। बिहार में भारी बारिश के चलते बाढ़ (Flood In Bihar) आई जिसकी वजह से पूरे राज्य में जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया। इस भयंकर बाढ़ में कई लोगों की जान भी चली गई। हालांकि स्थिति सामान्य होने के बाद अब बिहार के लोग अजीब तरह की बारिश से बेहद हैरान हैं। क्योंकि यह कोई आम बारिश नहीं है बल्कि यह है “चांदी की बारिश” (Silver Rain In Bihar)। जी हां आपने बिल्कुल ठीक पढ़ा। बिहार के सीतामढ़ी जिले के सुरसंड प्रखंड में आसमान से पानी नहीं बल्कि चांदी की बारिश हुई। इस चांदी की बारिश (Silver Rain In Bihar) ने सभी को आश्चर्य में दाल दिया। जब लोग सुबह सड़क पर निकले तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं। सुरसंड के टॉवर चौक से बाराही गांव तक जाने वाले मार्ग पर चारों तरफ चांदी ही चांदी बिखरी पड़ी थी। जिसे देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे बारिश से चांदी की बारिश हो गई हो। इसे मालामाल कर देने वाली बारिश से जहां सभी काफी हैरान थे वहीं इस चांदी को लूटने की होड़ मच गई।

चांदी की बारिश (Silver Rain In Bihar) की खबर फैलते ही सभी गांव वाले सड़क से चांदी की छोटी-छोटी बूंदें चुनने पहुंच गए। सड़क से एक-एक चांदी की बूंद को चुन कर लोग अपने-अपने घर ले गए। हालांकि इस दौरान लोग एक-दूसरे से यह भी पूछ रहे थे कि आखिर सड़क पर यह शुद्ध चांदी आई कहां से? खैर इस बात का जवाब तो अभी तक किसी को नहीं मिला कि आखिर सड़क पर यह शुद्ध चांदी की बारिश आखिर कब और कैसे हुई?

चूंकि इस गांव से नेपाल की सीमा रेखा बेहद समीप है इसलिए आशंका जताई जा रही है कि इस मार्ग से चांदी की तस्करी की जा रही होगी। तस्करी की चांदी ले जाते वक़्त बोरी फट जाने की वजह से पूरे रास्ते में चांदी बिखर गई होगी। यह चांदी की छोटी-छोटी बूंदे (Silver Rain In Bihar) परिहार-सुरसंड स्टेट हाईवे -87 पर लगभग 3 किमी. तक बिखरी मिलीं हैं।

मिली जानकारी के अनुसार सुरसंड नगर पंचायत के आंबेडकर चौक से लेकर जवाहरलाल नेहरू मेमोरियल कॉलेज बराही, सहसराम रोड ललिया चौक तक ये चांदी की बूंदे (Silver Rain In Bihar) मिली। इन्हे समेट कर अपने घर ले जाने के लिए मंगलवार आधी रात ही गांव वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। गांव वालों ने देर रात तक तकरीबन 150 से 200 ग्राम तक चांदी की बूंदे चुनी। इसके बाद तो सुबह लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा और लोगों ने 2-2 किलो तक चांदी की बूंदे चुन ली। मिली जानकारी के अनुसार मार्ग से तकरीबन 50 किलो तक की चांदी की बूंदे चुनी गई हैं और दिन ढलने तक मार्ग से सभी चांदी की बूंदे गांव वालों द्वारा चुन ली गईं।

थानाध्यक्ष भोला कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है। वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि अक्सर तस्कर नेपाल से चांदी की तस्करी करते हैं। भिट्ठामोड़ , बथनाहा, मधवापुर, नवाही, मरुवाही, सहसराम व बराही आदि गांवों से देर रात सोना-चांदी की तस्करी की जाती है।

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.