Woman Beaten Rickshaw Driver : राजकोट में बीच सड़क पर रिक्शा चालक ने महिला को डंडे से पीटा

0

गुजरात के राजकोट से एक रिक्शा चालक द्वारा एक महिला को डंडे से पीटने का मामला सामने आया है। यह घटना राजकोट के सिविल कोर्ट के पास की बताई जा रही है। मिली जानकारी के अनुसार एक ऑटो रिक्शा चालक ने एक महिला को पुलिस के डंडे से पीटा। ऑटो चालक ने महिला से बदतमीजी की और उसे पुलिस के डंडे से बीच सड़क पर मारा। इसके बावजूद महिला दिलेरी के साथ ऑटो चालक का सामना करती रही। चालक द्वारा जब महिला को बीच सड़क पर पीटा जा रहा था तब वहां लोगों की भीड़ एकत्र हो गई और लोग मूक दर्शक बने तमाशा देखते रहे। भीड़ में से किसी ने भी महिला को बचाने का प्रयास नहीं किया और लोग इस घटना की वीडियो बनाने में मशगूल रहे।

सीएम कमलनाथ ने तय की व्यापमं को खत्म करने की डेडलाइन

गौरतलब है कि कुछ देर के बाद भीड़ में से कुछ लोग बीच-बचाव के लिए आगे आए और उन्होंने रिक्शा चालक के हाथ से लाठी छीन ली, और महिला व उसके साथी को चालक की मार से बचाया जा सका। अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि ऑटो रिक्शा चालक के हाथ में जो पुलिस की लाठी थी वह कहां से आई? वहीं जब ऑटो चालक महिला पर डंडे बरसा रहा था तब महिला बार-बार यही कह रही थी कि, मेरे भाई को क्यों मारते हो? जब महिला चालक से यह कह रही थी उसी दौरान चालक ने महिला के भाई को गाली देना शुरू कर दिया। पूरे राजकोट में इस घटना को लेकर चर्चा चल रही है। इस पूरे घटनाक्रम के दौरान एक भी पुलिस वाला मौके पर नहीं पहुंचा। पुलिस प्रशासन के लचर रवैये को लेकर भी लोग सवाल उठा रहे हैं।

आपके शहर में ये नेता सदस्यता अभियान के लिए आने वाले हैं

लोगों का कहना है कि हेलमेट न पहनने और सड़कों पर थूकने पर जुर्माना वसूलने के लिए पुलिस मुस्तैदी से और अचानक ही न जाने कहां से आ जाती है, लेकिन इस पूरे घटनाक्रम के दौरान एक भी पुलिस वाला घटना वाले स्थान से कोसों दूर तक नहीं दिखाई दिया। जबकि जिस सड़क पर महिला को पीटा जा रहा था वह सिविल कोर्ट वाला मार्ग था और कोर्ट से कुछ ही दूरी पर यह घटना हुई। इसके बाद भी एक भी पुलिस वाला नज़र नहीं आया। लोगों का सवाल है कि सरकार महिला सुरक्षा को लेकर तमाम दावे करती है लेकिन जब उनकी सुरक्षा की बात आती है तो सारे दावे खोखले साबित होते हैं। जब मुख्यमंत्री निवास वाले शहर में ही महिलाओं को सुरक्षित नहीं रखा जा सकता तो बाकी शहरों में सुरक्षा के दावे महज़ एक दिखावा है। वहीं क्राइम रिकॉर्ड की रिपोर्ट देखी जाए तो राजकोट में ही सबसे ज्यादा दुष्कर्म के मामले सामने आए है।

लोगों को पीटने के लिए ‘जय श्री राम’ का सहारा

Share.