आजम खान की लोकसभा सदस्यता खतरे में

0

समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान को एक बेहद जोर का झटका लगा है। दरअसल रामपुर लोकसभा सीट से जीत दर्ज करने वाले सपा नेता आजम खान की लोकसभा सदस्यता ख़त्म करने वाली याचिका स्वीकार कर ली गई है। आजम खान की लोकसभा की सदस्यता को इलाहाबाद हाई कोर्ट में चुनौती दी गई थी। आजम खान की सदस्यता को चुनौती देने वाली यह याचिका बॉलीवुड अदाकारा और भाजपा नेत्री जया प्रदा ने दाखिल की थी।

पुलिस की धीमी गति : होली पर घटना, अब जाकर प्रकरण दर्ज

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान सपा नेता आजम खान ने भाजपा नेत्री जया प्रदा पर अभद्र टिपण्णी की थी। अपनी याचिका इलाहाबाद हाई कोर्ट में दाखिल करते हुए जया प्रदा ने आजम खान पर आरोप लगाया और कहा कि, चुनाव के समय आजम खान लाभ के पद पर थे। उनका आरोप है कि आजम खान ने यह जानकारी चुनाव आयोग से छिपाई थी। अपनी याचिका में जया प्रदा ने आजम खान पर आरोप लगते हुए कहा कि, सपा नेता आजम खान ने 2 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया था। जब उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया था उस समय वे मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय में कुलाधिपति के लाभ पद पर थे। लेकिन उन्होंने इस बात की जानकारी को चुनाव आयोग से छिपाया था।

IndvEng World Cup 2019 : महबूबा मुफ़्ती ने बताया क्यों हुई भारत की हार

जया प्रदा ने याचिका में कहा कि यह अनुच्छेद 102(1) ए व लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के सेक्शन 9(ए) और संविधान के अनुच्छेद 191(1)ए का उल्लंघन है। जया प्रदा ने सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश का हवाला देते हुए कहा कि, सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि यदि कोई सांसद या विधायक किसी लाभ पद पर है तो उसकी सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी। लाभ पद पर भले ही उस व्यक्ति ने फिर वेतन या दूसरे भत्ते लिए हों अथवा नहीं। जया प्रदा की तरफ से दाखिल इस याचिका को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है। इस बारे में सपा सांसद आजम खान ने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। अब आजम खान की मुश्किलें बढ़ गईं हैं।

कमलनाथ अपना इस्तीफा राहुल गांधी को सौंप देंगे !

Share.