अपराधियों की जाति के संबंध में सुनाया फैसला

0

हाईकोर्ट में अपराधियों की जाति के संबंध में एक फैसला सुनाया गया है| कोर्ट का कहना है कि अपराधियों से जाति के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए, यदि कोई ऐसा करता है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए|

फैसला राजस्थान हाईकोर्ट ने सुनाया और पुलिस को निर्देश दिए कि अपराधियों की गिरफ्तारी और जमानत के कागजों में जाति का उल्लेख नहीं किया जाना चाहिए| जाति के आधार पर व्यक्ति की पहचान का प्रावधान किसी कानून में नहीं है| कोर्ट ने यह आदेश एक याचिका पर सुनाया, जिसमें याचिकाकर्ता को आबकारी कानून के तहत पकड़ा गया था| याचिकाकर्ता का कहना है कि उसकी जाति के कारण उसे जमानत नहीं दी गई|

हाईकोर्ट के जज एसपी शर्मा ने राज्य सरकार और पुलिस को आदेश दिया कि गिरफ्तारी और जमानत के कागजों में पहचान के लिए जाति का उल्लेख किया जाना बंद किया जाए|

Share.