यूनिवर्सिटी में माता का पूजन करना वर्जित

0

बसंत पंचमी (Basant Panchami) का दिन मां सरस्वती (Saraswati) को समर्पित होता है| इस दिन से वसंत ऋतु का आगमन होता है| माता सरस्वती को ज्ञान, संगीत और कला की देवी माना जाता है|  इस दिन उत्तर भारत में मां सरस्वती की खास पूजा की जाती है, परंतु केरल के कोच्चि की एक यूनिवर्सिटी ने उत्तर भारतीय छात्रों द्वारा कैंपस में सरस्वती पूजा करने पर प्रतिबंध लगा दिया है|  

इस संबंध में यूनिवर्सिटी का कहना है कि हमारा कैंपस धर्मनिरपेक्ष है और हमारे द्वारा अपने परिसर में ऐसी किसी भी धार्मिक गतिविधियों की इजाज़त नहीं दी जा सकती है|

मामला कोच्चि यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के अंतर्गत आने वाले कोच्चि यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के कुट्टनड़ कैंपस का है| यहां कुछ उत्तर भारतीय छात्रों ने  वसंत पंचमी के अवसर पर सरस्वती पूजा करने के लिए वाइस चांसलर से परमिशन मांगी थी| छात्रों ने वीसी को 25 जनवरी को पत्र लिखकर इस आयोजन के लिए अनुमति मांगी थी|

इस पत्र के जवाब में यूनिवर्सिटी के ज्वाइंट रजिस्ट्रार (अकादमिक) ने छात्रों को जवाब लिखा है| उसमें वाइस चांसलर का हवाला देते हुए कहा गया है, “सूचित किया जाता है कि उत्तर भारतीय छात्रों द्वारा सरस्वती पूजा करने के अनुरोध को वाइस चांसलर ने अस्वीकार कर दिया है क्योंकि हमारा कैंपस धर्मनिरपेक्ष है,  इसलिए हम कैंपस में ऐसी किसी भी कार्य और गतिविधि की इजाज़त नहीं देते हैं, जो किसी धर्म विशेष का हो|”

गौरतलब है कि इस साल वसंत पंचमी 10 फरवरी को पूरे भारत में मनाई जाएगी, परंतु यूनिवर्सिटी के इस तुगलकी फरमान से वहां पढ़ रहे उत्तर भारतीय छात्रों में काफी नाराज़गी और रोष है|

जुर्माना भरो, घर खाली करो – सुप्रीम कोर्ट

MP RAHUL GANDHI LIVE : जंबूरी मैदान से ललकार

MP RAHUL GANDHI LIVE : जंबूरी मैदान से ललकार

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.