घोषणावीर मामा का झूठा कारनामा

0

इन दिनों मध्यप्रदेश में मालवा निमाड़ भारी बारिश की चपेट में है। (Shivraj Singh Chouhan visited Flood Affected Areas) जिसमे सबसे अधिक प्रभावित जिले नीमच और मंदसौर में 100 से ज्यादा गांव के 20 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। सोमवार को इन दोनों जिलों में धुप निकली जिसके बाद लोगो ने राहत की सांस ली। इन जिलों के ताजा हालत जानने के लिए मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दौरा किया  बाढ़ पीड़ितों ने उनसे गुहार लगाईं की बाढ़ ने उनसे सबकुछ छीन लिया जिसके बाद उन्होंने बाढ़ पीड़ित लोगो को सरकार से हर संभव मदद दिलाने का वायदा किया।

जरूर पढ़ें, भारत में रहना है तो ये दस्तावेज हैं अनिवार्य

सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंदसौर में धुंधड़का, अफजलपुर, पाल्या मारू, रामपुरा और मल्हारगढ़ में बाढ़ पीड़ितों के बीच पहुंचे। धुंधड़का गाँव  में मामा ने ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा की केंद्र सरकार ने प्रदेश के बाढ़ राहत कोष में एक हजार करोड़ रुपये दिए है। (Shivraj Singh Chouhan visited Flood Affected Areas) इसलिए प्रदेश सरकार को जल्द ही बाढ़ पीड़ितों के लिए कुछ न कुछ करना चाहिए या पीड़ितों को राशि प्रदान करना चाहिए। इस बयान के करीब 4 घंटे पश्चात जब पत्रकारों द्वारा इस सवाल को दोबारा मामा से पूछा गया तो वह अपने कहे बयान से मुकर गए हुए सवाल को टाल दिया पत्रकारों के पास इन दोनों बयानों के वीडियो उपलब्ध है।

नरेंद्र मोदी की पौष्टिक खिचड़ी के फायदे और बनाने की विधि

बातचीत में घोषणावीर मामा ने कहा मैं यहां यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि हम लोग यहां विरोध के लिए नहीं, बल्कि सहयोग के लिए आए हैं। हमारी पहली प्राथमिकता है कि पानी में घिरे जो लोग हैं, गांव हैं, उनको राहत मिल सके। रेस्क्यू ऑपरेशन के साथ तत्काल राहत बहुत जरूरी है। हम सभी के मन में एक ही भाव है कि इस समय आरोप-प्रत्यारोप नहीं प्रशासन को पूरा सहयोग कर संकट की इस घड़ी से जनता को बाहर निकालना है। मेरा मुख्यमंत्री जी और कांग्रेस के लोगों से ये अपील है कि यह समय मैं और तू करने का नहीं है, आइए हम साथ मिलकर के अपने लोगों की सेवा में जुटें। हमने पहल करते हुए क्षेत्रीय विधायक और सांसद ने एक महीने की वेतन बाढ़ प्रभावितों और राहत के लिए देने का फैसला किया है।

क्या आप जानते है नरेंद्र मोदी अभिनेता और निर्देशक भी रह चुकें है

-Mradul tripathi

 

Share.