नीट में अनुत्तीर्ण हुआ तो जान दी

0

मई जून के महीने विद्यार्थी वर्ग के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि अधिकांश परीक्षाओं के परिणाम इन्हीं महीनों में आते हैं परंतु ये महीने जितनी ख़ुशी देते हैं, उतना ही दुःख भी क्योंकि विद्यार्थियों की आत्महत्या की खबरें भी इन्हीं महीनों में आती हैं|

कल पात्रता प्रवेश परीक्षा (नीट) के परिणाम आए, जिसमें उत्तीर्ण न हो पाने के कारण 19 साल के अभ्यर्थी ने दिल्ली में द्वारका के सेक्टर 12 की एक इमारत की आठवीं मंजिल से कूदकरअपनी जान दे दी| बताया जा रहा है कि विद्यार्थी 2016 में बारहवीं कक्षा पास करने के बाद बीते दो साल से नीट परीक्षा दे रहा था तथा इस परीक्षा में लगातार दूसरी बार अनुत्तीर्ण हुआ था|

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि पुलिस को शाम करीब सवा पांच बजे द्वारका के सेक्टर 12 की सनी वैली सीजीएचएस सोसायटी में खुदकुशी की खबर मिली|  प्रश्न यह उठता है कि जिन युवाओं के दम पर हम विकसित भारत का सपना देख रहे हैं, वे छोटी-छोटी असफलताओं पर यूं आत्महत्या करेंगे तो हम आधुनिक भारत की संकल्पना को साकार कैसे कर पाएंगे? इस पर पालकों और हमारे शिक्षा तंत्र को गहन विचार करने की आवश्यकता है|

Share.