UP में चिटफंड घोटाला, कंपनी ने लगाई 300 करोड़ की चपत

0

उत्तर प्रदेश (UP)  हमेशा से जुर्म के प्रदेश के रूप में फेमस रहा है। उत्तर प्रदेश में आए दिन मर्डर (Murder), रेप (Rape) , लूट और गुंडई जैसे मामले सामने आते रहते हैं लेकिन इस बार चिटफंड (Diamond Infraland Developers Company) का बेहद बड़ा और चौकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल उत्तर प्रदेश के बरेली (Bareilly) से चिटफंड का एक मामला सामने आया है जहां एक कंपनी ने हजार-दो हजार नहीं बल्कि तकरीबन 5 हजार लोगों को ठग (Fraud Company) लिया। जी हां यह कंपनी करोड़ या दो करोड़ नहीं बल्कि लगभग 300 करोड़ रुपए लेकर रफूचक्कर हो गई है। कंपनी का नाम डायमंड इंफ्रालैंड डेवलपर्स (Diamond Infraland Developers Company) बताया जा रहा है जिसने तकरीबन 5 हजार लोगों को अपना शिकार बनाया और उन्हें चपत लगाकर गायब हो गई। कंपनी द्वारा रुपए लेकर फरार हो जाने के बाद पीड़ितों ने फरार कंपनी के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। अब पुलिस इस मामले में जांच में जुट चुकी है।

UP News : भगवान राम पर मायावती का विवादास्पद बयान

कौन है मालिक

डायमंड इंफ्रालैंड डेवलपर्स (Diamond Infraland Developers Company) नाम की इस धोखेबाज कंपनी का डायरेक्टर नरेंद्र पाल गंगवार (Narendra Pal Gangwar) नामक शख्स बताया जा रहा है जो फिलहाल अपने पूरे परिवार के साथ ही फरार है। यह कंपनी सिर्फ बरेली ही नहीं बल्कि यूपी के कई जिलों में अपने ऑफिस संचालित करती थी। यूपी के कई जिलों में इस कंपनी के ऑफिस खुले हुए थे। कई जिलों में ऑफिस होने की वजह से लोगों को कंपनी पर विशवास हुआ और उन्होंने अपने पैसे इसमें इनवेस्ट किए। कंपनी में पैसा इनवेस्ट करने वाले लोग कम नहीं हैं। इस कंपनी में 1 या 2 नहीं बल्कि 5 हजार से भी ज्यादा लोगों ने अपने पैसा इनवेस्ट कर रखा था और कंपनी सभी के रुपयों को लेकर फरार हो गई। बता दें कि डायमंड इंफ्रालैंड डेवलपर्स के डायरेक्टर नरेंद्र पाल गंगवार ने लोगों को ठगने और उन्हें अपनी बातों में उलझाने के लिए लगातार अखबारों में पूरे-पूरे पेज के विज्ञापन छपवाए। कंपनी द्वारा रोजाना अखबारों में पूरे-पूरे पेज पर छपवाए गए विज्ञापन को देखकर भोली-भाली जनता कंपनी की बातों में आ गई और जनता को झूठे सपने दिखाकर कंपनी ने उनसे करोड़ों रुपए ऐंठ लिए।

CAA के खिलाफ हो रही हिंसा ने अभी तक UP में 9 लोगों की ली जान

वैसे कहा गया है की लालच बुरी बला है लेकिन आज के दौर के लोग इस बात को सुनते और मानते कहां है और इसी का नतीजा है कि डायमंड इंफ्रालैंड डेवलपर्स (Diamond Infraland Developers Company) जैसी कंपनी ने इतने बड़े पैमाने पर जनता से ठगी की। दरअसल यह कंपनी लोगों को उनका पैसा महज़ 5 सालों में दोगुना करने और प्रॉपर्टी में पैसा इनवेस्ट कर मोटा लाभ कमाने का प्रलोभन दिया करती थी। कंपनी की इन्ही चिकनी-चुपड़ी बातों में आकर लोगों ने इसमें अपने जमा पूंजी लगा दी। हालांकि रुपए दोगुना करने की बात पर तो आज के दौर में कोई भी विश्वास नहीं करता और न ही इतनी जल्द किसी कंपनी की बातों में आता है लेकिन डायमंड इंफ्रालैंड डेवलपर्स कंपनी (Diamond Infraland Developers Company) ने लोगों को अपने जाल में फंसाने के लिए यूपी के कई जिलों में अपने ऑफिस खोल दिए ताकि लोगों को उस पर भरोसा हो सके। जैसा कंपनी के डायरेक्टर नरेंद्र पाल गंगवार (Narendra Pal Ganwar )ने सोचा था ठीक वैसा ही हुआ। कई जिलों में कंपनी के ऑफिस संचालित होने की वजह से लोग इस कंपनी के झांसे में आ गए और लालच के चलते कई लोगों ने अपनी जमा पूंजी दांव पर लगा दी। लालच की वजह इस कंपनी से 5 हजार से भी ज्यादा लोग जुड़ चुके थे और अपना धन इसमें लगा चुके थे। कंपनी के डायरेक्टर नरेंद्र पाल ने मौका देखा और सारे पैसे लेकर फरार हो गया। पुरानी कहावत है कि अब पछताय का होत जब चिड़िया चुग गई खेत… बस यही हाल उन पीड़ितों का हो रहा है जो इस ठगी का शिकार हुए। पीड़ितों ने बताया कि वे लगातार पिछले कई महीनों से अधिकारियों के यहां चक्कर काट रहे हैं लेकिन उनकी कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही। पीड़ितों ने परेशान होकर मुख्यमंत्री पोर्टल (Prime Minister Portal) पर शिकायत की, थाने भी गए, पुलिस में शिकायत भी की लेकिन अभी तक इस मामले में कुछ भी नहीं किया गया। पीड़ितों के अनुसार डायमंड इंफ्रालैंड डेवलपर्स कंपनी(Diamond Infraland Developers Company) ने बरेली, बदायू, शाहजहांपुर, पीलीभीत, हरदोई, फरुखाबाद  समेत अन्य कई जिलों में अपने ऑफिस खोले हुए थे। वहीं इस मामले में सहायक पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा (Assistant Superintendent of Police Abhishek Verma) का कहना है कि कंपनी के डायरेक्टर नरेंद्र पाल के खिलाफ बारादरी थाने में मुकदमा दर्ज है और उस पर करोड़ों की ठगी का आरोप है। फिलहाल पुलिस को उसकी अभी तक कोई भी जानकारी नहीं है लेकिन पुलिस लगातार उसकी तलाश कर रही है।

Video : UP के स्कूल में अंग्रेजी की शिक्षक ही नहीं पढ़ सकी अंग्रेजी फिर…

Prabhat Jain

Share.