हैंडपंप से पानी नहीं निकल रहा है मांस, हड्डियां और खून

0

हमीरपुर : हम सभी ने कई तरह की विचित्र घटनाएं देखी और सुनी हैं जिन पर यकीन करना शायद मुश्किल हो लेकिन आखिर वे सच होती हैं। ऐसी ही एक और बेहद ही विचित्र घटना के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। दरअसल यह घटना उत्तर प्रदेश के हमीरपुर की है। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर (Hamirpur News) में एक दिन अचानक ही एक हैंडपंप से पानी की जगह खून निकलने लगा। खून तक तो ठीक था लेकिन खून के साथ हैंडपंप से मांस के टुकड़े और हड्डियां भी बाहर आने लगी। यह देख क्षेत्र के लोग काफी भयभीत हो गए। आग की तरह ये बात पूरे क्षेत्र में फ़ैल गई। अब भला हैंडपंप से पानी की जगह खून, मांस और हड्डियां निकलने लगें तो लोगों का डरना तो स्वाभाविक ही है इसलिए लोग उस हैंडपंप के पास भी नहीं फटकते।

भारतीय सेना को मिली दुनिया की सबसे शक्तिशाली राइफल

यह वाकया है हमीरपुर के जाखेड़ी गांव का। इस गांव में पीने के पानी का एकमात्र साधन सिर्फ यही एक हैंडपंप था जो अब पानी नहीं खून उगलने लगा। हैंडपंप ने दीपावली के बाद से गांव के लोगों को डरा रखा था जिसकी शिकायत हमीरपुर के डीएम (DM) से की गई। इसके बाद डीएम ने एसडीएम (SDM) को तत्काल ही गांव वालों की समस्या का निराकरण करने और हैंडपंप की जांच के आदेश सुना दिए। एसडीएम ने भी इस विचित्र घटना की पता लगाने की हर संभव कोशिश की लेकिन जांच में कुछ खास सामने नहीं आया (Hamirpur News)। जब एसडीएम इस मामले में कुछ पता नहीं कर पाए तो उन्होंने इस हैंडपंप को ही बंद करवा दिया। एसडीएम का कहना है कि हैंडपंप में सांप या कोई अन्य जीव फंस गया होगा जो अब हैंडपंप से बाहर आ रहा है।

देशद्रोहियों का साथ दे रही है दिल्ली सरकार ?

SDM ने इस बारे में गांव के प्रधान से भी बात की है। एसडीएम का कहना है कि जल्द ही हैंडपंप की सफाई सबमर्सिबल से करवा दी जाएगी। हालांकि एसडीएम ने तो सफाई की बात करवा दी लेकिन गांव वाले उनकी बात मानाने से इंकार कर रहे हैं। गांववालों का कहना है कि यह कुछ समय से नहीं बल्कि पिछले लगभग 2 महीनों से चल रहा है। गांववालों का कहना है कि वे लगातार इसकी शिकायत कर रहे हैं लेकिन कोई भी कार्रवाई नहीं हो रही है। गांव में पीने के पानी का एकमात्र साधन यही हैंडपंप है। ऐसे में गांववालों को बहुत दूर से पानी लाना पड़ रहा है।

क्या नागरिकता बिल  मुस्लिमों के खिलाफ है ? पढ़ें शाह का भाषण

Prabhat Jain

Share.