Jharkhand Election Results: झारखंड चुनाव में बीजेपी की हार

0

हेमंत सोरेन की जीत

झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के अध्यक्ष हेमंत सोरेन (Hemant Soren) दुमका विधानसभा क्षेत्र से 13188 मतों के अंतर से व बरहेट विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से 25740 मतों के अंतर से जीते।

पीएम मोदी ने दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड चुनाव 2019 में जीत के लिए झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के अध्यक्ष हेमंत सोरेन (Hemant Soren) को बधाई दी। पीएम मोदी ने कहा, “झारखंड चुनाव में जीत के लिए हेमंत सोरेन जी और झामुमो के नेतृत्व वाले गठबंधन को बधाई। राज्य की सेवा में उन्हें शुभकामनाएं।”

एक और राज्य से बीजेपी आउट होने की कगार पर आ गई है। मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हार के बाद महाराष्ट्र में बीजेपी जीती हुई बाजी भी हार गई और अब  झारखंड (BJP Defeat In Jharkhand Assembly Election Results) में भी  कुछ ऐसे ही हालात बन गए हैं। झारखंड में बीजेपी की हार से यह साबित हो रहा है कि अब ‘नमो’ नाम की आँधी शांत हो चुकी है। 2014 के विधानसभा चुनाव में 37 सीटें जीतने वाली भाजपा इस बार 30 सीटों से नीचे सिमटती हुई दिखाई दे रही है। शुरुआती रुझानों में ऐसा लग रहा था कि झारखंड के नतीजे किसी के भी पक्ष में नहीं जाएंगे, लेकिन बाद में कांग्रेस और जेएमएम ने बाद में अच्छी खासी बढ़त बना ली है।

Jharkhand Election Result 2019 Live : किसे मिलेगी झारखंड की सत्ता ?

क्या मोदी सरकार के फैसलों से परेशान हुई जनता

चुनाव में भाजपा की हार (BJP Defeat In Jharkhand Assembly Election Results) का सबसे बड़ा कारण ऐन मौके पर उसका चुनावी रण में अकेले पड़ जाना है। भाजपा को सबसे बड़ा झटका ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन ( AJSU ) के साथ छोड़ने से लगा था। वहीं एनडीए के अहम सहयोगी नीतिश कुमार की पार्टी जेडीयू और रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी ने भी अलग-अलग चुनाव लड़ा, जो बीजेपी की हार का बड़ा कारण सबित हुआ। इसके अलावा मोदी सरकार जब से दोबारा सत्ता में आई है तब से एक के बाद एक कई फैसले लेते जा रही है। आर्टिकल 370, तीन तलाक और राम मंदिर पर आए फैसले (decision on the Ram temple) के बाद अभी देश में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर बवाल मचा हुआ है।

Jharkhand Mob Lynching : ओवैसी जिंदाबाद के नारे लगाकर रेप की धमकी

मुख्यमंत्री रघुवर दास की आलोकप्रिय छवी

झारखंड में बीजेपी की हार (BJP Defeat In Jharkhand Assembly Election Results) के लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास (Chief Minister Raghuvar Das ) की आलोकप्रिय छवी को भी कारण माना जा रहा है। राजनीति जानकार मानते हैं कि सीएम रघुबरदास अपने फैसलों के चलते सरकार आदिवासियों के बीच लोकप्रिय नहीं हैं। आदिवासी वोटबैंक इस बार भाजपा (BJP) के साथ नहीं हैं। अब इसके बाद ऐसा लग रहा है जैसे बिहार में बीजेपी को अगला झटका लग सकता है।  ऐसा इसीलिए कहा गया क्योंकि गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) कई मौकों पर ऐसी राय जता चुके हैं, जिससे लगा है कि वह बिहार में भाजपा के अकेले चुनाव मैदान में जाने के पक्षधर रहे हैं। इसमें उनकी व्यक्तिगत महत्त्वाकांक्षा भी बताई जाती रही है। उनके समर्थक कई बार उन्हें राज्य के भावी मुख्यमंत्री के तौर पर भी पेश करते रहे हैं।

RDD Jharkhand Recruitment 2019 : ग्रामीण विकास विभाग में भर्तियां

  –   Ranjita Pathare

Share.