बैंक ने नहीं लौटाया सोना

0

देश में घोटालेबाज़ बैंकों और सरकार को चूना लगाकर और करोड़ों लूटकर विदेश भाग जाते हैं| कई ऐसे भी डिफ़ॉल्टर हैं, जिनके बारे में सरकार को जानकारी भी नहीं है कि वे कहां है ? वहीं जब बात आम आदमी की आती है तो बैंक उनसे एक रुपया भी वसूलने से पीछे नहीं हटती है|

एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें बैंकों और प्रशासन का आम आदमी के प्रति रवैया आसानी से समझा जा सकता है| दरअसल, तमिलनाडु में एक सहकारी बैंक ने एक ग्राहक को उसके लोन में एक रुपया बकाया बताकर डिफॉल्टर घोषित कर दिया और फिर बैंक ने 138 ग्राम सोना लौटाने से इनकार कर दिया|

कांचीपुरम सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की पल्लवरम शाखा के सदस्य सी.कुमार ने कहा कि वह बैंक से साढ़े तीन लाख रुपए का सोना वापस पाने के लिए पांच साल से भटक रहा है| उसने बताया कि 6 अप्रैल 2010 को उसने बैंक से 1.23 लाख रुपए का लोन लिया था, जिसके लिए उसने 131 ग्राम सोना गिरवी रखा था| इसके बाद उसने फिर 1.65 लाख का लोन लिया और कुल 138 ग्राम सोना बैंक को दिया| 2011 में उसने अपना पहला लोन पूरा कर दिया था, जिसके मुताबिक, 131 ग्राम सोना वापस मिला था| इसके बाद उसने पूरा लोन चुका दिया, लेकिन बैंक ने यह बोलकर सोना देने से इनकार कर दिया कि दोनों लोन में से एक-एक रुपया बकाया है इसलिए सोना लौटाया नहीं जाएगा| अब ग्राहक ने राहत के लिए मद्रास हाई कोर्ट का रुख किया है|

Share.