website counter widget

6 वर्षीय मासूम से निर्भया जैसी दरिंदगी, आक्रोश में राजधानी

0

आप सभी को साल 2012 में घटित हुई दिल्ली रेप केस की वारदात जिसे निर्भया कांड का नाम दिया गया था, तो याद होगी। इस गैंग रेप के बाद पूरी दिल्ली समेत पूरे देश में आक्रोश की आग जल उठी थी। एक बार फिर देश की राजधानी दिल्ली को ऐसी ही एक घटना ने झकझोर कर रख दिया। इस बार इस तरह की वारदात एक 6 वर्षीय मासूम के साथ की गई। मासूम से की गई हैवानियत के बाद उसकी हालत नाज़ुक बनी हुई है। बच्ची की हालत को बयान करते हुए उसके पिता ने कहा कि वह सिर्फ पापा बोल पा रही है।

पीएम के दबाव में हैं कैलाश विजयवर्गीय?

गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली में 2 जुलाई को हुई इस वारदात ने एक बार फिर 16 दिसम्बर 2012 को घटी उस घटना की याद दिला दी जिसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। जिस घटना के बाद महिला सुरक्षा को लेकर तमाम तरह के इंतेजामात किए गए और फ़ास्ट ट्रेक का गठन भी किया गया। लेकिन तमाम सुरक्षा वादों के बाद भी इस तरह की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है। फिलहाल मासूम से निर्भया जैसी दरिंदगी करने वाले दरिंदे को पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गिरफ्तार कर लिया है। अपराधी ने अपना अपराध भी कबूल कर लिया है। लेकिन बच्ची की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है।

यह पूरा मामला नै दिल्ली के द्वारका इलाके का है जहां एक 6 साल की बच्ची अपने घर के सामने खेल रही थी। तभी वहां मोहम्मद नन्हे नामक शख्स पहुंचा और बच्ची को टॉफी दिलाने के बहाने साथ ले गया। इसके बाद पास ही झाड़ियों में आरोपियों ने बच्ची के साथ दरिंदगी की और उसे वहां छोड़कर फरार हो गया। दर्द से तड़पती और रोती-बिलखती मासूम किसी तरह घिसटती हुई सड़क पर पहुंची। जैसे ही मासूम को गांव वालों ने देखा तो तत्काल ही पुलिस को सूचना दी और बच्ची को अस्पताल में दाखिल करवाया।

अब धोती- कुर्ता पहनकर ट्रेन में सफर करना हुआ बैन!

 

पुलिस और गांववालों ने मिलकर बच्ची के परिजन का पता लगाया। वहीं बच्ची की हालत और ज्यादा बिगड़ जाने पर उसे सफदरजंग अस्पताल में रेफर किया गया। पुलिस ने इस मामले में तत्काल ही सीसीटीवी फुटेज खंगाले और आरोपी को धर-दबोचा। पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया। फिलहाल मासूम की हालत स्थिर है।

वहीं इस दरिंदगी के खिलाफ लोगों का गुस्सा का फूट पड़ा। लोगों ने मंगलवार के दिन द्वारका में इस घटना के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया और आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की मांग की। मासूम की हालत जानने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और स्वाति मालीवाल अस्पताल पहुंची। सीएम केजरीवाल ने बच्ची के परिजन से मुलाकात कर कहा कि मदद के लिए उन्हें 10 लाख रुपए दिए जाएंगे और साथ ही एक वकील भी प्रदान किया जाएगा ताकि आरोपी को कड़ी सजा दिलवाई जा सके।

लोकायुक्त की छापामार कार्रवाई, रिश्वत लेते पटवारी गिरफ्तार

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.