11 लाख के इनामी डकैत जगन ने किया आत्मसमर्पण

0

चंबल के 11 लाख रुपए के इनामी डकैत जगन गुर्जर ने हथियार समेत आत्मसमर्पण कर दिया है। जगन की तलाश में धौलपुर पुलिस लगातार दबिश दे रही थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वह घड़ी बाजना इलाके में आया था, जहां पुलिस ने उसे चारों ओर से घेर लिया। एनकाउंटर के डर से जगन ने आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस ने जगन से पूछताछ शुरू कर दी है।

पिछली बार डकैत जगन 16 मार्च 2017 को जेल से छूट गया था। उसके बाद जगन ने तीसरी बार हथियार उठाकर चम्बल के बीहड़ को निशाने पर लिया। जगन गुर्जर के खिलाफ भरतपुर, धौलपुर और करौली जिले के कई थानों में हत्या, मारपीट और अवैध रूप से लोगों से अवैध वसूली के करीब सात दर्जन से अधिक मामले दर्ज हैं। पुलिस को लंबे समय से जगन की तलाश थी।

जगन के अपराध लगातार बढ़ने पर धौलपुर पुलिस पर जगन को गिरफ्तार करने का दबाव बढ़ता जा रहा था। ऐसे में पुलिस ने दबिश बढ़ा दी।  जगन के खिलाफ राजस्थान पुलिस ने 5000 रुपए का इनाम घोषित किया था।

डकैत जगन पहले भी कर चुका है आत्मसमर्पण

इससे पहले जगन उस वक्त चर्चा में आया, जब मुख्यमंत्री वसुंधराराजे के महल को उड़ाने की धमकी दी थी। इस पर जगन गुर्जर पर 11 लाख का इनाम घोषित किया गया। इनाम घोषित किए जाने पर जगन गुर्जर ने कांग्रेस नेता सचिन पायलट के समक्ष आत्मसमर्पण किया था। जगन ने अपराध की दुनिया से दूर होने के लिए राजनीति पर भी रुख किया था। जगन गुर्जर ने अपनी पत्नी ममता गुर्जर को अप्रैल 2017 के उपचुनाव को खड़ा करवाया था, लेकिन ममता की जमानत जब्त हो गई। बाद में जगन फिर से डकैत बन गया, जिसने हाल ही में फिर  आत्मसमर्पण किया|

Share.