सच्ची खबर : कोरोनिल और डॉक्टर मुजाहिद हुसैन के आयुष मंत्रालय से निलंबन की खबर का सच

0

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने  ‘कोरोनिल टैबलेट’ और ‘श्वासारि वटी’ नाम की दो दवा लॉन्च कर दावा किया की यह कोरोना का ईलाज करेगी . कोरोना वायरस का आयुर्वेदिक इलाज कही जाने वाली इन दवाओ का क्लिनिकल ट्रायल किये जाने की बात भी कही गई. पतंजलि की इस घोषणा के कुछ समय बाद भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने कहा की बाबा ने इसके लिए अनुमती नही ली थी और मंत्रालय को इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है. मंत्रालय ने दवा से जुड़े विज्ञापनों पर रोक लगाने की बात भी कही., पतंजलि के चेयरमैन आचार्य बालकृष्ण ने इसके जवाब में कहा था कि पतंजलि  ने आयुष मंत्रालय को इससे जुडी तमाम जानकारी पहले से ही दे दी है.

क्रिकेट आस्ट्रेलिया से 40 लोगों की छुट्टी, कारण ……..

3 (1)

20 वें दिन भी बढ़ी पेट्रोल डीजल की कीमतें

अब इस सब के बीच एक खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई जिसमे यहाँ कहा गया की कोरोनिल दवा पर रोक लगाने वाले डॉक्टर मुजाहिद हुसैन को आयुष मंत्रालय ने हटा दिया है. अखिल भारतीय हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विजय शंकर तिवारी ने एक ट्वीट करते हुए लिखा, “पतंञ्जलि निर्मित कोरोनिल पर रोक लगाने वाले ‘डॉक्टर मुजाहिद हुसैन” को आयुष मंत्रालय ने हटा दिया,आयुष को बदनाम करने वाले मुजाहिद हुसैन जैसे लोग ही सिस्टम में बैठ कर आयुर्वेद को बदनाम करते हैं.’ इसके बाद यह तेजी से वायरल हुआ और लोगो ने इस खूब साँझा किया.

Image

लेकिन सच यह है-

सच तो यह है कि  इसका हकीकत से कोई वास्ता नही है. मीडिया रिपोर्ट या आयुष्मंत्रालय का कोई बयांन इसका समर्थन नही करता . आयुष मंत्रालय ने किसी मुजाहिद हुसैन नाम के डॉक्टर को कोरोनिल दवा पर रोक लगाने की वजह से हटाया नही है.

जेपी नड्डा ने लगाया ये गंभीर आरोप!

manoj

आयुष मंत्रालय ने सोशल मीडिया पर चल रहे इस झूठ को गलत साबित करने के लिए ट्वीट किया. और यह स्पष्ट किया डॉक्टर या मेडिकल अफ़सर को उसके पद से नहीं हटाया गया है.

Share.