अफसरों में भारत-पाक जैसे हालात

0

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने ‘सिविल सर्विस डे’ के मौके पर शुक्रवार को प्रशासनिक अकादमी में अफसरों को कई सलाह दी| प्रशासनिक अकादमी में आयोजित कार्यशाला में शिवराज ने कहा कि अधिकारियों को आपस में शांतिपूर्वक काम करना चाहिए न कि भारत और पाकिस्तान की तरह| इस दौरान शिवराज ने अफसरों को ऐशोआराम छोड़ने और आपसी गुटबाजी खत्म करने की सलाह दी|

उन्होंने कहा कि कई बार देखा गया है कि अधिकारी अपना अलग-अलग गुट बना लेते हैं और आपस में शत्रुओं की तरह टकराव रखते हैं| आपस में ऐसा व्यवहार बिल्कुल गलत है| अधिकारियों को एक-दूसरे का मित्र बनकर देश सेवा में एक-दूसरे का सहयोग करना चाहिए|

सीएम शिवराज ने कहा कि देश के विकास में सिविल सेवा का महत्वपूर्ण योगदान होता है| ऐसे में जरूरी है कि ये विभाग आपस में सामंजस्य बनाएं रखें और देश के लिए कैसे और बेहतर काम किया जा सकता है, इस पर चिंतन करें|

शिवराज ने आगे कहा कि लोकायुक्त जैसे मामलों में कई बार अफसर फंस तो जाते हैं, लेकिन बाद में उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती है| गुटबाजी के कारण उनके खिलाफ किसी तरह के सबूत मिलते हैं, जिससे कई सरकारी योजनाएं प्रभावित होती हैं| अफसरों में यह गुटबाजी काफी तकलीफदेह होती है| इस गुटबाजी के कारण मुझे भारत, पाकिस्तान जैसा लगता है| इसलिए जरूरी है कि सभी अफसर अपने काम को पूरी सच्चाई से करें ताकि देश के विकास में किसी तरह की बाधा न आए|

Share.