वसुंधरा के आगे झुके यादव

1

पूर्व जदयू नेता शरद यादव के विवादित बयान ने सियासत की आग में घी डालने का काम किया है। राजस्थान में मतदान को लेकर पहले ही सियासत का मौहल गर्म था, इस पर शरद ने अपने बयान से इस आग को और हवा दे दी। जब शरद यादव चौतरफा घिरे तो फिर मरता क्या ना करता उनके पास माफ़ी मांगने के अलावा कोई उपाए भी नहीं था। उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने अपने बयान पर मांफी मांगी।

राजस्थान की मुख्यमंत्री के खिलाफ कहे अपशब्दों से महारानी भी आहत हुईं लेकिन उन्होंने मतदान करने तक चुप्पी साध ली। महिलाओं के लिए बनाए गए पिंक बूथ पर मतदान करने के बाद जब राजे पत्रकारों से रूबरू हुईं तो, शरद पर आग बबूला हो उठीं। और हों भी क्यों न, शरद ने उनके मोटापे का मजाक जो उड़ाया था।

अपने मोटापे को लेकर की गई टिप्पणी से नाराज वसुंधरा ने कहा कि ‘मैं पूरी तरह हतप्रभ रह गई। मुझे नहीं लगता है कि इतने लंबे अनुभव वाला और हमारे परिवार से करीबी ताल्लुकात रखने वाला कोई भी नेता अपनी वाणी पर संयम नहीं रख पाएगा। इससे बुरी बात और क्या हो सकती है ?’ इसके बाद चुनाव आयोग से राजे ने अपील करते हुए कहा कि, चुनाव आयोग को इस बयान पर संज्ञान लेना चाहिए और यादव पर कार्रवाई करनी चाहिए क्योंकि, यह सिर्फ मेरा नहीं बल्कि, सभी महिलाओं का अपमान है।

यादव को लेकर जब राजे ने यह बयान दिया तब शरद यादव को अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि ‘हमारा उनके (वसुंधरा) साथ बहुत की पुराना पारिवारिक संबंध है। अगर मेरे शब्द से उन्हें चोट पहुंची है तो मैं क्षमा चाहता हूं। मैं उन्हें पत्र भी लिखूंगा।’

माकपा नेता वृंदा करात ने यादव के इस बयान को आपत्तिजनक बताया और कहा कि एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता को ऐसा कहना शोभा नहीं देता उन्होंने बहुत ही शर्मनाक बयान दिया है और उन्हें राजस्थान की मुख्यमंत्री से माफ़ी मांगनी चाहिए।

राजस्थान चुनाव : शरद यादव पर राजे का पलटवार

शरद यादव ने साधा सरकार पर निशाना

शरद यादव ने संघ को कहा आतंकी

Share.