सेवादल ने की संघ की खुलकर तारीफ, बवाल

0

राजनीति में एक-दूसरे के धुर विरोधी भाजपा और कांग्रेस यूं तो हमेशा ही विचारधारा को लेकर टकराते रहते हैं, लेकिन इन दिनों कांग्रेस के नेता संघ की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं। सबसे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया ने संघ के अनुशासन का पाठ अपने कार्यकर्ताओं को याद करने की सीख दी थी वहीं अब सेवादल के प्रेस नोट में भी संघ की खुलकर तारीफ की गई है। इस प्रेस नोट में सेवादल ने इतने कसीदे पढ़े गए कि हंगामा हो गया।

हाल ही में राहुल गांधी के बेहद करीबी माने जाने वाले कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया ने ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ’ की तारीफ़ की थी। इसके बाद उनके बयान पर काफी हंगामा भी हुआ था, लेकिन उन्होंने अपने बयान पर कोई सफाई नहीं दी थी। इसके बाद अब कांग्रेस सेवा दल ने संघ की खुलकर तारीफ की है।  सेवादल के प्रेसनोट में साफ तौर पर संघ की तारीफ की गई है। पेपर में लिखा गया है कि संघ का अनुशासन फौज की तरह है। प्रेस नोट में सेवादल ने संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार को देशभक्त लिखा है।

प्रेस नोट में संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार के विभिन्न आन्दोलनों का जिक्र है। किस तरह उन्होंने 1921 के असहयोग आंदोलन में भाग लिया और जेल गए। इसके बाद 1928 में साइमन कमीशन के भारत आगमन पर आरएसएस ने आंदोलन किया और उनका विरोध किया। सेवादल ने लिखा कि आरएसएस ने आज़ादी की लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान दिया था, लेकिन जब इस पर बवाल हुआ तो सेवादल ने इसे छपाई की गलती बताया।

गौरतलब है कि इससे पहले मध्यप्रदेश कांग्रेस के प्रभारी और वरिष्ठ नेता दीपक बाबरिया ने कार्यकर्ताओं के सामने संघ की तारीफ की थी। बाबरिया ने  कार्यकर्ताओं से कहा था कि उन्हें आरएसएस से अनुशासन सीखना चाहिए। इसके बाद जब विवाद हुआ तो दीपक बाबरिया ने कहा था कि यदि किसी संगठन के अच्छे पहलुओं की तारीफ की जाए तो उसमें कोई बुराई नहीं है। अभी तक आरएसएस की तारीफ को लेकर कांग्रेस के किसी बड़े नेता की प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Share.