यह गांव है देश का सबसे ‘स्मार्ट’ गांव…

0

चमचमाती सड़कें, सड़क-चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे, हर घर में शौचालय, सार्वजनिक वाटर प्यूरिफायर, वाटर कूलर, अंडरग्राउंड ड्रेनेज सिस्टम, सोलर लाइट, सर्वसुविधायुक्त स्कूल, ई-प्रशासन, वाई-फाई सुविधा, सोसाइटी का अपना मोबाइल एप और पब्लिक एड्रेस सिस्टम भी। यह कागज़ों में लिखे किसी आदर्श गांव की योजना का ब्लूप्रिंट नहीं है, बल्कि छत्तीसगढ़ के सिवनीखुर्द गांव का असल चेहरा है, जो किसी शहर से भी ज्यादा बेहतर है।

बदलते भारत के स्मार्ट होते गांवों की तस्वीर देख उत्साह दोगुना हो उठता है कि सचमुच अपना देश बदल रहा है। ऐसे ही एक गांव  की कहानी। धमतरी जिले के कुरुद ब्लॉक स्थित सिवनीखुर्द गांव पंचायत सुविधाओं के नाम पर शहरी व्यवस्थाओं को भी मात दे रही है। वह भी बिना सरकारी योजनाओं का इंतज़ार किए। अपने दम पर इस गांव के लोगों ने इसे ‘स्मार्ट’ गांव बना दिया है।

उपरोक्त तमाम सुविधाओं के अलावा यहां सामुदायिक भवन भी है, जिसमें ग्रामीणों के मनोरंजन के लिए 42 इंच की एलसीडी टीवी मौजूद है। जगह-जगह वाटर कूलर सिस्टम के अलावा सड़क चौराहों पर सोलर लाइट लगी है तो 22 सीसीटीवी कैमरे गांव की सतत निगरानी करते हैं। सिवनीखुर्द गांव में सभी नालियां अंडरग्राउंड हैं।

करीब 2200 की आबादी वाली इस पंचायत में दिन ढलते ही सोलर लाइट से सड़कें और गलियां जगमगा उठती हैं। सिवनीखुर्द गांव में पानी की टंकियों के पास वाटर कूलर लगाए गए हैं। सरपंच बलराम पटेल कहते हैं, गांव को वे सभी सुविधाएं देने की कोशिश कर रहे हैं, जो शहरों में होती हैं।

इसके लिए पंचायत फंड के साथ ही जनप्रतिनिधियों से भी सहयोग लिया जाता है और आमजन भी मदद को आगे आते हैं। पंचायत की आमदनी बढ़ाने की लगातार कोशिशें भी होती रहती हैं। जल्द ही हम मल्टी जिम भी खोलने जा रहे हैं। सिवनीखुर्द गांव दिखने  में भी स्वच्छ और बेहद खूबसूरत है। सरकारी योजनाओं और पूरे देश को इस गांव से उदाहरण लेने की ज़रूरत है।

कंगना पहुंची छत्तीसगढ़, हिमाचल जैसा लगा प्रदेश

Share.