स्कूल की फीस नहीं देने की मिली ऐसी सज़ा कि…

0

एक बच्चे की स्कूल की फीस समय पर नहीं दी तो स्कूल वालों ने उसे घर जाने नहीं दिया और स्कूल में ही कैद करके रखा| दरअसल, महाराष्ट्र के लातूर जिले सात वर्षीय बच्चे को स्कूल वालों ने सिर्फ इसीलिए घर नहीं जाने दिया क्योंकि उसके अभिभावकों ने फीस का भुगतान नहीं किया था| इस मामले में स्कूल के अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया है|

जानकारी के अनुसार, लातूर जिले की उदगीर तहसील में उदय कॉलोनी में एक अंग्रेजी माध्यम स्कूल में दूसरी कक्षा के बच्चे को कैद करके रखा गया| ऐसा इसीलिए किया गया क्योंकि छात्र के माता-पिता ने 12,000 रुपए स्कूल की फीस नहीं भरी थी| इसी के साथ पिछले साल के भी छह हजार रुपए बकाया थे| जब कई बार सूचना देने पर भी बच्चे के अभिभावक फीस का भुगतान करने में असमर्थ रहे तो स्कूल वालों ने नया हथकंडा अपनाया और बच्चे को स्कूल के कार्यालय में बैठने के लिए मजबूर किया| जब बच्चे के पिता उसे लेने पहुंचे, तब जाकर स्कूल वालों ने बच्चे को जाने दिया|

पुलिस ने बताया कि बच्चे के पिता ने स्कूल के संबंधित शिक्षक, सेक्रेटरी और निदेशक के खिलाफ आईपीसी की धारा 342 के तहत मामला दर्ज कराया है| अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है| फिलहाल मामले की जांच चल रही है| वहीं स्कूल प्रबंधन की ओर से कहा गया है कि उन्होंने बच्चे के पिता को पहले बता दिया था, हमने बच्चे को कैद में नहीं रखा|

प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए अब स्नातक में 50% अंक लाना ज़रूरी नहीं

100 फीसदी नतीजे देने वाला शासकीय हाईस्कूल

स्कूल में 60 प्रतिशत से अधिक लाने वाली छात्राओं को छात्रवृत्ति

Share.