सत्य पाल मलिक बने कश्मीर के 13वें राज्यपाल

0

इस ईद पर केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के नए गवर्नर के रूप में पहली बार किसी राजनेता को चुनकर कश्मीरियों को एक नया तोहफ़ा दिया है।सत्यपाल मलिक द्वारा गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के 13वें राज्यपाल के तौर पर शपथ ग्रहण की गई। राजभवन में एक कार्यक्रम में जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल के द्वारा मलिक को राज्यपाल पद की शपथ दिलाई गई। समारोह में पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत करीब 400 लोग मौजूद रहे। उनके अलावा नागरिक प्रशासन, पुलिस, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीमा सुरक्षा बल और सेना के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

गौरतलब है कि दो महीने पहले ईद-उल-फितर के मौके पर केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में रमज़ान के दौरान लागू किए गए संघर्ष विराम को आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया था। इसके बाद ही भाजपा ने पीडीपी के साथ अपने गठबंधन को तोड़ दिया था और काश्मीर में राज्यपाल शासन लगाने की घोषणा कर दी थी।

सत्य पाल मलिक 30 सितम्बर 2017 से 21 अगस्त तक बिहार राज्य के राज्यपाल रह चुके हैं। इससे पहले वे अलीगढ़ सीट से 1989 से 1991 तक जनता दल की तरफ से सांसद रहे। सत्यपाल गुरुवार को शपथ लेकर नरेंद्र नाथ वोहरा की जगह लेंगे, जो बीते दस वर्षों  से इस पद पर मौजूद थे। दस वर्ष की अवधि के बाद उन्हें दो माह का सेवा विस्तार दिया गया था। मलिक इससे पहले बिहार के राज्यपाल थे।

वहीं लालजी टंडन ने भी गुरुवार को बिहार के राज्यपाल के तौर पर शपथ ग्रहण  की। वरिष्ठ भाजपा नेता लालजी टंडन को मलिक की जगह बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया गया है।

राज्यपाल के आने से काश्मीरी जनता की उम्मीदे बढ़ गई हैं।  काश्मीर में हमले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। बीते कुछ दिनों से घाटी में लगातार आतंकी हमले हो रहे हैं, जिसमें पुलिस अधिकारी और आर्मी जवान शहीद हुए हैं।

Share.