फिर दौड़ा 113 साल पुराना स्टीम इंजन

1

पूरी दुनिया में प्रसिद्ध कालका-शिमला हैरिटेज ट्रैक (Kalka Shimla Rail Heritage Track ) पर एक बार फिर 113 साल पुराना स्टीम इंजन दौड़ते हुए नज़र आया। जी हां, यह स्टीम इंजन विदेशी पर्यटकों को शिमला से कैथली घाट तक लेकर गया। 113 साल पुराने इस स्टीम इंजन में बुधवार सुबह तकरीबन 11 बजकर 30 मिनट पर तीन कोच जोड़े गए। इस पुराने और अद्भुत इंजन ने 12 विदेशी सैलानियों को कैथलीघाट तक पहुंचाया। विदेशी पर्यटकों ने तकरीबन 22 किमी तक का यह सफर इस पुराने इंजन के साथ किया।

इस सफर के दौरान विदेशी सैलानियों ने करीब डेढ़ घंटे तक प्राकृतिक नज़ारों का लुत्फ़ उठाया। जानकारी के अनुसार, इस इंजन को विदेशी सैलानियों की बुकिंग पर ही चलाया गया था और इस सफर को वनवे ही रखा गया था। इस स्टीम इंजन का अपन अलग ही नज़ारा होता है। हसीन वादियों में धुएं का गुबार छोड़ते हुए यह स्टीम इंजन विदेशी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा। इस सफर के दौरान इंग्लैंड से आए पर्यटकों ने अपनी ख़ुशी जाहिर की और कहा कि वह इस इंजन के सफर को लेकर काफी उत्साहित थे।

इस ट्रैक पर 1903 से 1970 तक स्टीम इंजन दौड़ा करते थे, जो विदेशी पर्यटकों का मुख्य आकर्षण होते थे। डीजल इंजन के प्रचलन में आने के बाद स्टीम इंजनों को बंद कर दिया गया था। नार्दन रेलवे ने साल 2001 में फिर से स्टीम इंजन को शुरू किया। नार्दन रेलवे 2001 से लगातार बुकिंग पर इन इंजनों को ट्रैक पर दौड़ाता है।

शिमला से ठंडी दिल्ली…

PHOTO : छुट्टी मनाने शिमला पहुंचे राहुल…

तीन दिन की बर्फबारी से जमा शिमला

शिमला: रेल लाइन पर गिरे पेड़ और मलबा, परेशान हुए यात्री

Share.