तीन दिवसीय लेक्चर सीरीज में बुलाया 60 देशों को, पाकिस्तान को छोड़ा

0

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ 17 सितंबर को तीन दिनों के लिए व्याख्यान श्रृंखला ‘फ्यूचर भारत आयोजित करने जा रहा है। इस व्याख्यान के लिए दुनियाभर से 60 देशों को आमंत्रित किया गया है, लेकिन संघ ने पाकिस्तान को छोड़ दिया है। सिर्फ पाकिस्तान को छोड़कर कुल 60 देशों को न्योता दिया गया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत इस लेक्चर सीरीज़ को संबोधित करेंगे और दर्शकों के सवाल का जवाब भी देंगे।

बड़े पैमाने पर होने जा रहे संघ के इस आयोजन में देश की प्रमुख बड़ी राजनीतिक पार्टियों और क्षेत्रीय पार्टियों को भी आमंत्रित किया गया है। ऐसी क्षेत्रीय पार्टियां, जिनका अपने क्षेत्र में ज्यादा प्रभाव है और वे लगातार आरएसएस की कार्यशैली पर सवाल उठाते रहते हैं, उन पार्टियों को खासतौर पर इस सम्मेलन में बुलाया गया है। वहीं मीडिया और उद्योगपतियों को आमंत्रित करने के लिए संघ विचार कर रहा है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक के उच्च पदाधिकारी ने बताया,”आतंक का समर्थन करने वाले देश को पाकिस्तान को इस सीरीज में शामिल करने का कोई औचित्य नहीं। आरएसएस भारतीय सैनिकों पर सीमा पर हमले करने वाले देश और भारत के साथ रिश्तों पर नकारात्मक रवैया रखने वाले देश को इस कार्यक्रम में बुलाना ज़रूरी नहीं समझता जबकि चीन को आमंत्रण भेजा गया है क्योंकि भारत और चीन में सांस्कृतिक समानताएं हैं।”

संघ द्वारा आयोजित इस व्याख्यान सीरीज को ‘फ्यूचर भारत’ नाम दिया गया है। संघ को उम्मीद है कि उनकी इस श्रृंखला को काफी अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी और देश-विदेश के नामी लोग सीरीज़ की दर्शक दीर्घा की शोभा बढ़ाएंगे।

आरएसएस का यह पहला प्रोग्राम होगा, जिसमें  मोहन भागवत सीधे तौर पर लोगों से बात करके आरएसएस, इसके संगठन, विचारधारा, विज़न, एक्टिविटीज़, आरक्षण, हिंदुत्व, कम्युनिज्म और प्रोग्राम जैसे अलग-अलग मुद्दे पर अपनी राय रखेंगे |

Share.